राज्यपाल सत्यपाल मलिक के न्योते पर राहुल बोले- आपका विमान नहीं, कश्मीर के लोगों और नेताओं से मिलने की इजाज़त चाहिए

राज्यपाल सत्यपाल मलिक के न्योते पर राहुल बोले- आपका विमान नहीं, कश्मीर के लोगों और नेताओं से मिलने की इजाज़त चाहिए

कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने जम्मू कश्मीर के राज्यपाल (Jammu-Kashmir  Governor) सत्यपाल मलिक (Satya pal Malik) का घाटी का दौरा कर जमीनी हकीकत जानने का न्योता स्वीकार कर लिया है। सत्यपाल मलिक ने राहुल गांधी के कश्मीर में हिंसा की खबर होने संबंधी टिप्पणी पर कहा था कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष को घाटी का दौरा कराने और जमीनी स्थिति का जायजा लेने के लिए वह विशेष विमान भेजेंगे। इस पर राहुल गांधी ने मंगलवार को कहा कि वह विपक्ष के नेताओं के साथ कश्मीर और लद्दाख का दौरा करना चाहेंगे।

राहुल ने ट्विटर पर कहा, ‘प्रिय गवर्नर मलिक, विपक्ष के नेताओं के एक प्रतिनिधिमंडल के साथ मैं आपके जम्मू-कश्मीर और लद्दाख आने के निमंत्रण को स्वीकार करता हूँ। हमें आपका विमान नहीं चाहिए, लेकिन कृपया हमें घूम-घूमकर वहां के लोगों, नेताओं और सैनिकों से मिलने की आजादी सुनिश्चित की जाए।’


बता दें, शनिवार की रात राहुल गांधी ने कहा था कि जम्मू कश्मीर से हिंसा की कुछ खबरें आयी हैं और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पारदर्शी तरीके से इस मामले पर चिंता व्यक्त करनी चाहिए। इस पर जवाब देते हुए राज्यपाल मलिक ने सोमवार को कहा था कि उन्होंने राहुल गांधी को यहां आने के लिए न्यौता दिया है। मलिक ने कहा, ‘मैं आपके लिए विमान भेजूंगा ताकि आप स्थिति का जायजा लीजिए और तब बोलिए। आप एक जिम्मेदार व्यक्ति हैं और आपको ऐसे बात नहीं करनी चाहिए।’

राज्यपाल ने कहा कि राहुल गांधी को अपनी पार्टी के एक नेता के व्यवहार के बारे में शर्मिंदगी महसूस करनी चाहिए जो संसद में ‘‘मूर्ख” की तरह बात कर रहे थे। उन्होंने कहा कि इस मुद्दे को मुठ्ठी भर लोग हवा दे रहे हैं लेकिन वह इसमें सफल नहीं होंगे।


AMU में पढ़ रहे कश्मीरी छात्रों ने ईद के मौके पर लंच का न्योता ठुकराया, कहा- ये जख्मों पर नमक छिड़कने जैसा

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)