Raksha Bandhan 2019: 15 अगस्‍त को है रक्षाबंधन, जानिए राखी बांधने का शुभ मुहूर्त, मंत्र और सही तरीका

Raksha Bandhan 2019: 15 अगस्‍त को है रक्षाबंधन, जानिए राखी बांधने का शुभ मुहूर्त, मंत्र और सही तरीका

Raksha Bandhan 2019: रक्षा बंधन (Raksha Bandhan) या राखी का त्‍योहार (Rakhi Festival) हिंदू धर्म के अहम त्‍योहारों में से एक है। पूरे देश में इसे हर्षोल्‍लास के साथ मनाया जाता है। यह त्‍योहार भाई-बहन के अटूट रिश्‍ते, असीम प्‍यार, त्‍याग और समर्पण की भावना को रेखांकित करता है। इस दिन बहनें अपने भाई की कलाई पर राखी (Rakhi) या रक्षा सूत्र (Raksha Sutra) बांधकर उसकी लंबी उम्र की मंगलकामना करती हैं।

रक्षा बंधन (Raksha Bandhan) कब है

हिंदू कैलेंडर के अनुसार रक्षाबंधन (Raksha Bandhan) का त्‍योहार हर साल श्रावण या सावन महीने की पूर्णिमा (Sawan Purnima) को मनाया जाता है। अंग्रजी कैलेंडर के अुनसार यह त्‍योहार अमूमन अगस्‍त के महीने में पड़ता है। इस बार रक्षाबंधन 15 अगस्‍त (Raksha Bandhan Date Time) दिन गुरुवार को मनाया जाएगा। 15 अगस्‍त (15 August) के दिन ही भारत का स्‍वतंत्रता दिवस (Independence Day) भी है।  इस बार 19 साल बाद रक्षाबंधन और स्वतंत्रता दिवस एक साथ मनाया जाएगा।


Raksha Bandhan 2019: रक्षाबंधन पर अपनी बहनों को भेजें ये दिल छू लेने वाली शायरी

भाई-बहन के प्रेम का त्योहार रक्षाबंधन इस बार बेहद खास होगा। इस बार कोई ग्रहण या भद्रा का योग नहीं बन रहा है। कहा जाता है कि भद्रा काल में बहनें अपने भाइयों को राखी नहीं बांधती हैं। इस वर्ष रक्षाबंधन 15 अगस्त बहनों को अपने भाइयों को राखी बांधने के लिए गुरुवार को पूरे दिनभर का समय मिल रहा है।

राखी बांधने का मुहूर्त (Raksha Bandhan Muhurat)

भद्रा बुधवार 14 अगस्त को दिन में 2:27 से लगकर रात्रि 3:35 तक रहेगी। इसलिए गुरुवार 15 अगस्त को प्रात:काल से दिनभर तक रक्षाबंधन मनाया जाएगा। 15 अगस्त को दिन में 12:55 बजे तक सौभाग्य योग है। उसके पश्चात शोभन योग लग रहा है, जो इस वर्ष के रक्षाबंधन में विशेष संयोग बना रहा है।

पूर्णिमा तिथि प्रारंभ: 14 अगस्‍त 2019 को रात 9 बजकर 15 मिनट से
पूर्णिमा तिथि समाप्‍त: 15 अगस्‍त 2019 को रात 11 बजकर 29 मिनट तक


राखी बांधने की विधि एवं मंत्र: (Raksha Bandhan Mantra)

– सबसे पहले राखी की थाली सजाएं। इस थाली में रोली, कुमकुम, अक्षत, पीली सरसों के बीज, दीपक और राखी रखें।
– इसके बाद भाई को तिलक लगाकर उसके दाहिने हाथ की कलाई पर रक्षा सूत्र अर्थात राखी बांधें।
– राखी बांधने के बाद भाई की आरती उतारें।
– फिर भाई को मिठाई खिलाएं।
– अगर भाई आपसे बड़ा है तो चरण स्‍पर्श कर उसका आशीर्वाद लें।
– अगर बहन बड़ी हो तो भाई को चरण स्‍पर्श करने चाहिए।
– राखी बांधने के बाद भाइयों को इच्‍छा और सामर्थ्‍य के अनुसार बहनों को उपहार देनी चाहिए।
– ब्राह्मण या पंडित जी भी अपने यजमान की कलाई पर रक्षा सूत्र बांधते हैं।
– ऐसा करते वक्‍त इस मंत्र का उच्‍चारण करना चाहिए:

ॐ येन बद्धो बली राजा दानवेन्द्रो महाबलः।
तेन त्वामपि बध्नामि रक्षे मा चल मा चल।।

इस मंत्र से राखी बांधने से वर्ष भर तक पुत्र पौत्रादि सहित सभी सुखी रहते हैं।


Raksha Bandhan History: क्या है रक्षाबंधन का इतिहास, पढ़ें राखी के त्योहार से जुड़ी कुछ प्रमुख कहानियां

Delhi Metro Timings on 15 August : स्वतंत्रता दिवस और रक्षाबंधन पर दिल्ली मेट्रो की टाइमिंग क्या होगी?

Nariyal Purnima 2019 : नारियल पूर्णिमा पर अपने चाहने वालों को भेजें ये प्यारे संदेश और शुभकामनाएं

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)