रामलीला में दशरथ बनकर प्राण त्यागने का किया अभिनय, थोड़ी देर बाद सचमुच हाे गया निधन

रामलीला में दशरथ बनकर प्राण त्यागने का किया अभिनय, थोड़ी देर बाद सचमुच हाे गया निधन

रामलीला में भाग लेने वाले कलाकार कभी-कभी किरदार में इतने घुस जाते हैं कि अभिनय और यथार्थ में अंतर कर पाना काफी मुश्किल हो जाता है। राजस्थान के झुंझुनूं जिले में चल रही रामलीला में एक दुखद संयोग ने हर किसी को हतप्रभ कर दिया है। झुंझुनू के मलसीसर इलाके में आयोजित रामलीला में दशरथ का रोल करते हुए एक कलाकार की मौत हो गई। रामलीला के मंचन के दौरान राजा दशरथ बने कुंदन मल जब मंच पर राम के वनगमन प्रसंग के अनुसार अंतिम सासें लेने का अभिनय कर रहे थे तो किसी को रत्ती भर अंदाज़ा नहीं था कि वह सचमुच अपने प्राण त्याग देंगे। हैरानी की बात तो ये है कि इस परिवार में ऐसा हादसा दूसरी बार हुआ है। मृतक कुंदन मल के भाई की मौत भी इसी तरह से दशरथ का रोल करने के बाद हुई थी।

जानें पूरा पूरा मामला

झुंझुनूं में मंड्रेला के समीप कंकड़ेऊ कलां में पिछले कई सालों से दशहरे से पहले रामलीला का आयोजन किया जाता है। इस साल भी यह रामलीला कुछ दिन पहले शुरू हुई। मंगलवार रात को इसमें भगवान श्री राम के वनवास गमन का मंचन किया गया। पिता की आज्ञा से श्रीराम के वन चले जाने के बाद दशरथ उनके वियोग में प्राण त्याग देते हैं।


रामलीला में दशरथ का किरदार चूरू के कुंदन मल निभा रहे थे। 65 साल के कुंदन लंबे समय से रामलीला में रोल निभाते रहे हैं। इस बार भी उन्होंने अपना किरदार बखूबी निभाया। बाद में तय समय पर रामलीला समाप्त होने के कुछ देर बाद ही कुंदन मल का आकस्मिक निधन हो गया। एक बार तो इस पर किसी को यकीन नहीं हुआ। जब कुछ देर पहले तक स्टेज पर उन्हें मंचन करते हुए देख रहे दर्शकों को कुंदन की मौत का पता चला तो पूरा माहौल गमगीन हो गया। उनके शव को रामलीला परिषद ने घर पहुंचाया, जिसके बाद से उनके घर लोगों का तांता लग गया। बुधवार को उनके गांव में कुंदन मल का अंतिम संस्कार किया गया। कुंदनमल करीब बीस साल से कंकड़ेऊ कलां की रामलीला में दशरथ का अभिनय कर रहे थे।

बिल्कुल स्वस्थ थे कुंदन, अचानक हुआ निधन

रामलीला परिषद कंकड़ेऊ कला के संयोजक ने बताया कि कुंदनमल एकदम स्वस्थ थे। पिछले तीन चार दिन से भी वे अपना किरदार बखूबी निभाते आ रहे थे। लेकिन रामलीला समाप्ति के बाद अचानक उनका निधन हो गया। कुंदन मल के तीन पुत्र व दो पुत्रियों का भरा पूरा परिवार है। गौरतलब है कि कुंदन के भाई जगदीश भी दशरथ का अभिनय किया करते थे। 30 साल पहले जगदीश की मौत भी दशरथ का अभिनय करते हुए ही हुई थी। गांव के लोग इस संयोग से हैरान हैं।


राजस्थान: कांग्रेस ने तोड़ लिए 6 विधायक तो बिफरीं मायावती, बोलीं- धोखेबाज पार्टी होने का प्रमाण दिया


(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)