शिवसेना संग गठबंधन पर पवार का यू-टर्न, बोले- उन्हें अपना रास्ता चुनना है और हम अपनी राजनीति करेंगे

महाराष्ट्र: सरकार गठन से शरद पवार नाखुश, कहा- ये फैसला पार्टी का नहीं

नई दिल्ली | कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात से पहले राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी(राकांपा) के अध्यक्ष शरद पवार ने सोमवार को महाराष्ट्र में शिवसेना के साथ गठबंधन को लेकर यू-टर्न ले लिया और कहा कि भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) और शिवसेना ने साथ चुनाव लड़ा था और उन्हें अपना रास्ता चुनना है। संसद में मीडिया से बातचीत में पवार ने कहा, “भाजपा-शिवसेना चुनाव साथ लड़े, हम और कांग्रेस साथ लड़े। उन्हें अपना रास्ता चुनना है और हम अपनी राजनीति करेंगे।”

उन्होंने हालांकि कहा कि वह दिन में बाद में सोनिया गांधी से उनके आवास में मुलाकात करेंगे।


कांग्रेस सूत्रों के अनुसार, बैठक में गठबंधन के दोनों दलों के बीच महाराष्ट्र में अगले कदम और विचारधारा के स्तर पर विपरीत शिवसेना के साथ संभावित गठबंधन पर चर्चा होगी। महाराष्ट्र में बीते मंगलवार को राष्ट्रपति शासन लगाया गया था।

पार्टी सूत्रों ने कहा कि चुनाव पूर्व गठबंधन सहयोगी कांग्रेस और राकांपा सरकार गठन को लेकर पहले से ही शिवसेना के साथ न्यूनतम साझा कार्यक्रम(सीएमपी) पर काम कर रहे हैं।

कांग्रेस सूत्रों ने कहा कि गठबंधन के लिए हां कहने से पहले, पार्टी चाहती है कि शिवसेना अपने कट्टर हिंदुत्व विचारधारा को छोड़े और कई मुद्दों पर धर्मनिरपेक्ष रुख अपनाए।


सूत्रों का कहना है कि राकांपा चाहती है कि कांग्रेस भी सरकार में शामिल हो।

(इस खबर को न्यूज्ड टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)