समुद्र तल ऊपर उठने से 2050 तक भारत में 3.6 करोड़ लोग प्रभावित होंगे

नई दिल्ली, 30 अक्टूबर (आईएएनएस)| समुद्र तल ऊपर उठने से देश के कुछ बड़े शहरों में बाढ़ का खतरा पैदा हो सकता है, और इससे देश में 2050 तक कुल 3.6 करोड़ लोग प्रभावित होंगे। न्यूजर्सी स्थित विज्ञान संगठन क्लाइमेट सेंट्रल के शोध के अनुसार, दुनिया भर में समुद्र का स्तर तीन दशकों में बढ़ने से भयावह बाढ़ आ सकती है, जिससे 30 करोड़ लोग प्रभावित हो सकते हैं।

शोधकर्ताओं ने पाया है कि पश्चिम बंगाल व तटीय ओडिशा के 2050 तक खास तौर से बाढ़ के चपेट में आने की आशंका है।


यह निष्कर्ष नए डिजिटल एलिवेशन मॉडल पर आधारित है, जिसे कोस्टलडीईएम कहते हैं। यह मॉडल दिखाता है कि दुनिया की बहुत से समुद्र तट बहुत नीचे हैं और समुद्र तल ऊपर उठने से आने वाले दशकों में करोड़ों लोग प्रभावित हो सकते हैं। क्लाइमेट सेंट्रल ने मशीन लर्निन का इस्तेमाल कर मॉडल प्रस्तुत किया है।

जर्नल नेचर कम्युनिकेशन में प्रकाशित शोध के निष्कर्ष से पता चलता है कि खतरा तटीय एशिया पर केंद्रित है और आज के जीवित लोगों के जीवनकाल के भीतर इसके आर्थिक व राजनीति परिणाम पर गहरा असर हो सकता है।

 


(इस खबर को न्यूज्ड टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)

You May Like