अब संत समाज करेगा स्वामी चिन्मयानंद का बहिष्कार!

अब संत समाज करेगा स्वामी चिन्मयानंद का बहिष्कार!

यूपी के शाहजहांपुर की एक छात्रा के यौन उत्पीड़न के आरोपी बीजेपी के पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद की परेशानी बढ़ने जा रही हैं। कानून का शिकंजा कसने के बाद अब संत समाज भी स्वामी चिन्मयानंद पर बड़ी कार्रवाई करने जा रहा है। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद 10 अक्टूबर को हरिद्वार में होने वाली बैठक में स्वामी चिन्मयानंद को संत समाज से बाहर का रास्ता दिखा दिया जाएगा। यानी चिन्मयानंद संत कहलाने का हक़दार नहीं रह जाएगा। इस बैठक में सभी 13 अखाड़ा परिषद के साधु-संत शामिल होंगे।

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के सूत्रों के मुताबिक स्वामी चिन्मयानंद संत परंपरा से आता है और उसका मूल नाम कृष्णपाल सिंह है। फिलहाल वह महानिर्वाणी अखाड़े का महामंडलेश्वर भी है। लेकिन छात्रा के साथ उसका यह कृत्य निंदनीय और शर्मनाक है। जिससे साधु-संतों की बदनामी हो रही है। कानून के अनुसार उसे सजा भुगतनी पड़ेगी, लेकिन संत समाज भी उसे अपनी श्रेणी से बहिष्कृत करेगा।


अखाड़ा परिषद ने यह भी कहा है कि जब तक कोर्ट के आदेश से वह निर्दोष साबित नहीं होता तब तक वह संत समाज से बहिष्कृत ही रहेगा। स्वामी चिन्मयानंद की गिरफ्तारी के बाद उसके वकीलों ने उसे जमानत दिलाने की हर संभव कोशिश की लेकिन शनिवार को छुट्टी होने की वजह से अदालत में उसकी अर्जी स्वीकार नहीं हुई।

ज्ञात हो कि एसआईटी ने चिन्मयानंद को शुक्रवार (20 सितंबर) को गिरफ्तार किया थ। चिन्मयानंद को उसके मुमुक्ष आश्रम से गिरफ्तार किया गया था। अदालत ने चिन्मयानंद को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा है। एसआईटी का कहना है कि चिन्मयानंद ने अपने ऊपर लगाए लगभग सभी आरोप स्वीकार कर लिया है।


यूपी: स्वामी चिन्मयानंद ने स्वीकारी अपनी गलती, कहा- लड़की को मसाज के लिए बुलाया था, शर्मिंदा हूं

चिन्मयानंद कैसे बने विशाल साम्राज्य के स्वामी


(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)