ई-कचरे से बने होंगे 2020 ओलंपिक के मेडल

ई-कचरे से बने होंगे 2020 ओलंपिक के मेडल

तोक्यो 2020 ओलंपिक के सभी पदक इलेक्ट्रानिक कचरे के पुन:चक्रण प्रक्रिया से मिली धातु से बनाए जाएंगे। खेल के आयोजकों ने शुक्रवार को यह घोषणा की। तोक्यो ओलंपिक की आयोजन समिति ने 2017 में लोगों से पुराने स्मार्टफोन और लैपटॉप सहित अन्य इलेक्ट्रानिक कचरे को एकत्रित करने की योजना लांच की थी, जिसका उद्देश्य पदकों के लिए धातु इकट्ठा करना था।

स्थानीय जापानी व्यवसाय और उद्योग से इस कचरे के रिसाइकिलिंग के बाद मिली धातु एकत्रित की जा चुकी है। शुक्रवार को जारी बयान के अनुसार आयोजकों ने कहा कि जितनी मात्रा में धातु मिली है, उससे उसका लक्ष्य पूरा हो जाएगा और यह प्रक्रिया मार्च के अंत में समाप्त हो जाएगी।


पिछले साल नवंबर में नगर निगम अधिकारियों ने 47,488 टन बेकार उपकरण एकत्रित किए थे, जिसमें से लोगों ने स्थानीय नेटवर्क को 50 लाख इस्तेमाल किए जाने फोन दिए थे।

ओलंपिक पदक बनाने के लिए पहले भी इलेक्ट्रानिक कचरे की पुन:चक्रण से मिली धातु इस्तेमाल की जा चुकी है, जिसमें रियो ओलंपिक भी शामिल था, जिसमें 30 प्रतिशत चांदी और कांसा ऐसे ही प्राप्त किया गया था।


(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)