UP Board Toppers: यूपी बोर्ड के एक ही स्कूल से 10वीं में रिया और 12वीं में अनुराग रहे अव्वल, देखें बाकी टॉपर्स की लिस्ट

  • Follow Newsd Hindi On  
JAC releases 12th Commerce result 2020 check your scorecard here

UP Board Toppers: यूपी बोर्ड ने 10वीं और 12वीं का आज घोषित कर दिया है। इसी के साथ ही यूपी बोर्ड के दसवीं और 12वीं कक्षा (UP Board 12th Result) के 56 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स का इंतजार खत्म हो गया।

इस बार 12वीं कक्षा में 68.88 फीसदी छात्रों ने बाजी मारी। वहीं इस बार भी छात्राएं छात्र से आगे रहीं। छात्राओं को पासिंग पर्सेंटेज 81.96 फीसदी रहा। 12वीं कक्षा में अनुराग मलिक ने 97 फीसदी मार्क्स के साथ टॉप किया है।


इस बार दसवीं और बारहवीं के टॉपर्स की खास बात ये रही कि ये दोनों एक स्कूल से रहे। अनुराग मलिक ने श्री राम एसएम इंटर कालेज, बड़ौत बागपत के छात्र हैं। वहीं दसवीं क्लास की टॉपर रिया जैन भी इसी स्कूल की छात्रा है।

10वीं में 83.31 फीसदी और 12वीं में 74.63 फीसदी स्टूडेंट्स पास हुए हैं। हाईस्कूल (10वीं) में बड़ौत-बागपत की रिया जैन ने 96.67 फीसदी मार्क्स के साथ टॉप किया है। इस वर्ष 10वीं और 12वीं दोनों का रिजल्ट पिछले साल से अच्छा रहा है।

इस बार दोनों कक्षाओं में लड़कियों का रिजल्ट लड़कों से बेहतर रहा है।  इस बार टॉपर्स को एक लाख रुपये और लैपटॉप का पुरस्कार दिया जाएगा। प्रेस कॉन्फ्रेंस में दिनेश शर्मा ने कहा कि पहली बार डिजिटल प्रमाणपत्र व अंकपत्र दिए जाएंगे।


10वीं के टॉपर

पहले स्थान पर – बड़ौत-बागपत की रिया जैन ने 96.67 फीसदी मार्क्स के साथ टॉप किया है।

दूसरे नंबर पर- अभिमन्यु वर्मा- पिता-रामहित वर्मा-95. 83%, बाराबंकी

तीसरे नंबर पर- योगेश प्रताप सिंह- राजेंद्र प्रताप सिंह 95.33%, बाराबंकी

12वीं के टॉपर

बागपत के अनुराग मलिक ने 97% मार्क्स के साथ टॉप किया है।

दूसरे स्थान पर – प्रांजल सिंह – 96% – प्रयागराज

तीसरे स्थान पर – उत्कर्ष शुक्ला, 94.80 – औरैया

इस बार यूपी के उपमुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा लखनऊ से नतीजों की घोषणा की। छात्र बोर्ड की वेबसाइट पर जाकर अपना रिजल्ट देख सकते हैं। इसी के साथ परीक्षा में शामिल हुए 50 लाख से अधिक छात्र-छात्राओं का इंतजार भी खत्म हो गया। इस बार कोरोना वायरस संक्रमण के चलते मूल्यांकन कार्य बाधित हुआ।

इसलिए परीक्षा परिणाम एक माह देरी से जारी किया गया। बोर्ड (Board) की 10वीं एवं 12वीं की परीक्षाएं कोरोना (Corona) का संक्रमण फैलने से पहले क्रमश: 3 और 6 मार्च को समाप्त हो गई थी। जिसके बाद कॉपी (Copy) जांचने का काम 16 मार्च को किया गया था लेकिन कोरोना के कारण इसे 18 मार्च से टालना पड़ा था।

छात्रों को मिलेगी डिजिटल हस्ताक्षर वाली मार्कशीट

यूपी बोर्ड हाईस्कूल (Highschool) एवं इंटरमीडिएट परीक्षा में शामिल 50 लाख से अधिक छात्र-छात्राओं को पहली बार डिजिटल हस्ताक्षर वाली मार्कशीट देगा। इस मार्कशीट को परिणाम घोषित होने के तुरंत बाद बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर रिजल्ट तो अपलोड कर दिया जाएगा।

सचिव नीना श्रीवास्तव के डिजिटल हस्ताक्षर वाली मार्कशीट अपलोड होने में दो-तीन का समय लगेगा। हर साल रिजल्ट के समय इंटरनेट से जो अंकपत्र बच्चों को मिलता है उसकी कोई कानूनी मान्यता नहीं होती। लेकिन डिजिटल हस्ताक्षर वाली मार्कशीट प्रवेश से लेकर नौकरी तक में मान्य होती है।

इसी को ध्यान में रखकर इस बार पहले इंटरमीडिएट के बच्चों को ये विशेष रूप से तैयार अंकपत्र (Marksheet) देने की तैयारी की गई है ताकि उन्हें आगे स्नातक या अन्य प्रवेश में किसी तरह की परेशानी न हो, कुछ दिन बाद में हाईस्कूल के बच्चों को उपलब्ध कराई जाएगी।

नतीजे जारी होने से पहले यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने बच्चों को शुभकामनाएं दीं। योगी ने ट्वीट कर कहा- मेरे प्यारे बच्चों, आज यूपी बोर्ड का परीक्षाफल आना है। वैसे परीक्षा व परीक्षाफल आत्म विश्लेषण का माध्यम मात्र हैं। अतः प्रत्येक परीक्षाफल को सहजतापूर्वक स्वीकार करना ही श्रेष्ठ है। प्रभु श्री राम की कृपा से आप सभी को मनोनुकूल परीक्षाफल की प्राप्ति हो।

आपको बता दें कि इस बार बोर्ड परीक्षा की कॉपियों की चेकिंग में एक लाख 20 हजार शिक्षकों को लगाया था जिन्होंने रिकॉर्ड समय में कॉपियां चेक की हैं। बोर्ड ने परीक्षा के दौरान केंद्रों पर सीसीटीवी, वॉयस रिकॉर्डर लगाने के साथ नकल पर सख्ती की थी।

इसी की नतीजा रहा कि पांच लाख से अधिक छात्र-छात्राएं परीक्षा छोड़कर भाग खड़े हुए थे। हालांकि इस बार कॉपी जांचने में थोड़ी नरमी दिखाई गई है। वैसे भी सीबीएसई की तर्ज पर चली आ रही मॉडरेशन नीति और बोर्ड की ग्रेस मार्क्स नीति के कारण बड़ी संख्या में छात्र-छात्राएं पास हो जाते हैं।

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)