UP Board 10th 12th Result 2020: यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटर परीक्षा का रिजल्ट हुआ जारी, इस तरह देखें अपना परीक्षा परिणाम

Know when the Rajasthan board will release class 10th results

UP Board 10th 12th Result 2020: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) बोर्ड ने हाईस्कूल और इंटर परीक्षा का रिजल्ट जारी कर दिया है। उपमुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा लखनऊ से नतीजों की घोषणा की। छात्र बोर्ड की वेबसाइट पर जाकर अपना रिजल्ट देख सकते हैं। इसी के साथ परीक्षा में शामिल हुए 50 लाख से अधिक छात्र-छात्राओं का इंतजार भी खत्म हो गया।

इस बार कोरोना वायरस संक्रमण के चलते मूल्यांकन कार्य बाधित हुआ। इसलिए परीक्षा परिणाम एक माह देरी से जारी किया गया। बोर्ड (Board) की 10वीं एवं 12वीं की परीक्षाएं कोरोना (Corona) का संक्रमण फैलने से पहले क्रमश: 3 और 6 मार्च को समाप्त हो गई थी। जिसके बाद कॉपी (Copy) जांचने का काम 16 मार्च को किया गया था लेकिन कोरोना के कारण इसे 18 मार्च से टालना पड़ा था।


इसके बाद 5 मई से ग्रीन जोन और 12 मई से ऑरेंज जोन में मूल्यांकन शुरू होकर जून के पहले सप्ताह तक सभी जिलों में कॉपियां जांचने का काम पूरा हो गया। यूपी बोर्ड ने अलग से पोर्टल बनाकर छात्र-छात्राओं के प्रैक्टिकल एवं लिखित परीक्षा समेत अन्य सूचनाओं को अपडेट किया।

इस तरह देखें अपना रिजल्ट-

1-यूपी बोर्ड ऑफिशियल वेबसाइट  upResults.nic.in पर जाएं।


2-यूपी बोर्ड रिजल्ट लिंक पर क्लिक करें।

3-अपना रोल नंबर, रजिस्ट्रेशन नंबर और डेट ऑफ बर्थ दर्ज कर सबमिट करें।

4-यूपी बोर्ड रिजल्ट आपके सामने होगा।

छात्रों को मिलेगी डिजिटल हस्ताक्षर वाली मार्कशीट

यूपी बोर्ड हाईस्कूल (Highschool) एवं इंटरमीडिएट परीक्षा में शामिल 50 लाख से अधिक छात्र-छात्राओं को पहली बार डिजिटल हस्ताक्षर वाली मार्कशीट देगा। इस मार्कशीट को परिणाम घोषित होने के तुरंत बाद बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर रिजल्ट तो अपलोड कर दिया जाएगा।

सचिव नीना श्रीवास्तव के डिजिटल हस्ताक्षर वाली मार्कशीट अपलोड होने में दो-तीन का समय लगेगा। हर साल रिजल्ट के समय इंटरनेट से जो अंकपत्र बच्चों को मिलता है उसकी कोई कानूनी मान्यता नहीं होती। लेकिन डिजिटल हस्ताक्षर वाली मार्कशीट प्रवेश से लेकर नौकरी तक में मान्य होती है।

इसी को ध्यान में रखकर इस बार पहले इंटरमीडिएट के बच्चों को ये विशेष रूप से तैयार अंकपत्र (Marksheet) देने की तैयारी की गई है ताकि उन्हें आगे स्नातक या अन्य प्रवेश में किसी तरह की परेशानी न हो, कुछ दिन बाद में हाईस्कूल के बच्चों को उपलब्ध कराई जाएगी।

नतीजे जारी होने से पहले यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने बच्चों को शुभकामनाएं दीं। योगी ने ट्वीट कर कहा- मेरे प्यारे बच्चों, आज यूपी बोर्ड का परीक्षाफल आना है। वैसे परीक्षा व परीक्षाफल आत्म विश्लेषण का माध्यम मात्र हैं। अतः प्रत्येक परीक्षाफल को सहजतापूर्वक स्वीकार करना ही श्रेष्ठ है। प्रभु श्री राम की कृपा से आप सभी को मनोनुकूल परीक्षाफल की प्राप्ति हो।

आपको बता दें कि इस बार बोर्ड परीक्षा की कॉपियों की चेकिंग में एक लाख 20 हजार शिक्षकों को लगाया था जिन्होंने रिकॉर्ड समय में कॉपियां चेक की हैं। बोर्ड ने परीक्षा के दौरान केंद्रों पर सीसीटीवी, वॉयस रिकॉर्डर लगाने के साथ नकल पर सख्ती की थी।

इसी की नतीजा रहा कि पांच लाख से अधिक छात्र-छात्राएं परीक्षा छोड़कर भाग खड़े हुए थे। हालांकि इस बार कॉपी जांचने में थोड़ी नरमी दिखाई गई है। वैसे भी सीबीएसई की तर्ज पर चली आ रही मॉडरेशन नीति और बोर्ड की ग्रेस मार्क्स नीति के कारण बड़ी संख्या में छात्र-छात्राएं पास हो जाते हैं।

इस तरह करें री-इवैल्युएशन के लिए अप्लाई –

री-इवैल्युएशन या स्क्रूटनी के लिए आवेदन करने के लिए कैंडिडेट्स को यूपी बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट से फॉर्म डाउनलोड करना होगा। इस फॉर्म को भरें और जो भी फीस प्रति विषय मांगी जा रही हो, वह भी जमा करें। स्टूडेंट एक से ज्यादा विषय का री-इवैल्युएशन करा सकते हैं, बस आप जितने विषय की स्क्रूटनी कराते हैं आपको सबकी अलग-अलग फीस देनी होती है।

भरे हुये फॉर्म फीस की स्लिप के साथ रीज़नल ऑफिस में डिप्टी सेक्रटरी के पास पहुंचानी होती है। ये प्रक्रिया रिजल्ट डिक्लेयर होने के तीस दिन के अंदर हो जानी चाहिए। पिछले साल तक प्रति विषय री-इवैल्युएशन की फीस 500 रुपये थी. इस साल इसमें कोई बदलाव होगा कि नहीं ये अभी नहीं कहा जा सकता।

री-इवैल्युएशन का फॉर्म भरते समय इस बात का ध्यान रखें कि दोबारा कॉपी चेक करने के बाद जो भी अंक आएंगे वे उन्हें स्वीकार करने होंगे।  आमतौर पर स्क्रूटनी के बाद अंकों में कोई खास बदलाव नहीं होता है पर अगर री-इवैल्युएशन में अंक कम हो गए तो कैंडिडेट को उन्हें ही स्वीकारना होगा।

इसलिए सलाह यही दी जाती है कि अगर आपको लगता है कि आपके एग्जाम अच्छे गए थे पर रिजल्ट उस हिसाब से नहीं आया है, तो ही आप दोबारा कॉपी जांचने के लिए आवेदन करें। री-इवैल्युएशन का रिजल्ट भी ऑनलाइन ही डिक्लेयर किया जाता है। जिसके लिए इंतजार करना पड़ता है।

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)