UP: मुरादाबाद में स्वास्थ्यकर्मियों की बड़ी लापरवाही, दो कोरोना पॉजिटिव मरीजों को भेज दिया घर

  • Follow Newsd Hindi On  
Corona Virus: डेंगू मरीजों में बनी एंटीबॉडी कोरोना से लड़ने में कर रही है मदद, रिसर्च में सामने आई रिपोर्ट

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में कोरोना की रोकथाम में लगे स्वास्थ्य विभाग की बड़ी लापरवाही सामने आई है। गुरुवार को अस्पताल के कर्मचारियों ने दो कोरोना निगेटिव लोगों के बदले दो पॉजिटिव मरीजों को ही क्वारंटीन सेंटर से घर भेज दिया। जानकारी होने पर पड़ोसियों ने हंगामा कर दिया तो मामला पकड़ में आया। जांच हुई तो स्टाफ की लापरवाही सामने आई। आनन-फानन में स्वास्थ्य विभाग ने दोनों पॉजिटिव मरीजों को अस्पताल में भर्ती करा दिया है। मरीजों के घर जाने के बाद उनके संपर्क में आए लोगों को भी ढूंढ़कर क्वारंटीन किया जा रहा है।

एक जैसे नाम के कारण हुई चूक

दोनों ही मरीजों के मिलते जुलते नाम वाले दूसरे दो लोग क्वारंटाइन थे। उन्होंने 14 दिन की क्वारंटाइन अवधि पूरी कर ली थी। नामों के कारण यह गलती हो गई। दोनों कोरोना संक्रमित मरीजों को एंबुलेंस से लाकर विवेकानंद नर्सिंग कॉलेज में भर्ती करा दिया गया है।


जानकारी के मुताबिक, आईएफटीएम क्वारंटाइन सेंटर से बुधवार रात 121 लोगों को क्वारंटाइन का समय पूरा होने पर घर भेजा गया था। एक जैसे नाम होने पर दो कोरोना पॉजिटिव मरीजों को भी एंबुलेंस से उनके घर भेज दिया। दरअसल, 21 अप्रैल को पीरजादा निवासी 33 साल के युवक और इंद्रा चौक निवासी 30 वर्षीय युवक की कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आई। इनमें इंद्रा चौक का युवक जमात से जुड़ा है। जबकि पीरदाजा वाले युवक की कोई ट्रेवल हिस्ट्री और जमात से संपर्क नहीं था।

दोनों ही आईएफटीएम में क्वारंटीन किए गए थे और 18 अप्रैल को उनका सैंपल लखनऊ भेजा गया। 21 अप्रैल को 80 सैंपलों में 21 लोगों की पॉजिटिव रिपोर्ट के साथ दोनों युवकों की भी पॉजिटिव रिपोर्ट आ गई। आईएफटीएम में ही क्वारंटीन 37 लोगों की निगेटिव और 22 लोगों की संशय वाली रिपोर्ट आई। स्वास्थ्य विभाग ने पॉजिटिव दोनों मरीजों को 22 अप्रैल की रात क्वारंटीन सेंटर से घर भेज दिया।

इंद्रा चौक निवासी युवक के 23 अप्रैल को घर में नजर आने पर पड़ोसियों ने कोतवाली पुलिस को सूचना दी। चूंकि पड़ोसियों ने अखबारों में यह पढ़ा था कि उनके मोहल्ले का व्यक्ति पॉजिटिव पाया गया है। ऐसे में जब वह घर दिखा तो उन्होंने पुलिस को सूचना दी। सूचना पर पुलिस ने स्वास्थ्य विभाग से संपर्क किया।


परिवार के लोगों को भी क्वारंटीन किया गया

इससे स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया। स्वास्थ्य विभाग ने क्वारंटीन सेंटर में पॉजिटिव और निगेटिव लोगों की लिस्ट क्रॉस चेक की। इसमें इंद्रा चौक के अलावा पीरदाजा निवासी पॉजिटिव युवक भी घर भेजा गया था।  स्वास्थ्य विभाग ने पुलिस की मदद से गुरुवार को दोनों पॉजिटिव युवकों को विवेकानंद नर्सिंग सेंटर में भर्ती करा दिया। युवक एक रात अपने घर में रुके हैं। इसलिए उनके परिवार के लोगों को क्वारंटीन कर दिया है।

सीएमओ डा. एमसी गर्ग ने बताया कि कर्मियों की बड़ी चूक सामने आई है। इसकी जांच की जा रही है। प्रारंभिक जांच में पता चला कि एक ही नाम के पॉजिटिव और निगेटिव युवक भी क्वांरटीन सेंटर में थे। कर्मचारियों की लापरवाही से निगेटिव युवकों को वहीं रोककर पॉजिटिव को घर भेज दिया। सीएमओ ने बताया कि दोनों युवकों के परिवार के क्वारंटीन लोगों के सैंपल भी कराए जाएंगे।

वहीं डीएम राकेश कुमार सिंह ने कहा कि चूक तो हो गई थी पर उसे तत्काल सुधार लिया गया। चिकित्सक दिन रात काम में लगे हैं। ऐसे में चूक हो सकती है पर तत्काल ही उन लोगों को वापस लाया गया। इससे बात बिगड़ते बिगड़ते रह गई। शुक्र यह है कि इनके परिवार के लोग पहले ही क्वारंटीन हैं।


मुरादाबाद में Covid-19 से डॉक्टर की मौत, परिवार को किया गया क्वारंटाइन

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)