यूपी पुलिस ने सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने वाले कथित पत्रकार को डाला जेल में

Maharashtra: 1 करोड़ 35 लाख की कीमत के मास्क की जमाखोरी के साथ शख्स गिरफ्तार, ज्यादा कीमत पर बेच रहा था N-95 मास्क

आजकल कोरोना वायरस को लेकर कई अफवाहें सोशल मीडिया और मुख्यधारा की मीडिया में फैलाई जा रही है। ऐसा ही कथित पत्रकार द्वारा सोशल मीडिया पर फर्जी जानकारी सांझा करने का मामले आया है। हालांकि उत्तर प्रदेश पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है।

दरअसल, उत्तर प्रदेश पुलिस ने एक खबर को ट्वीट कर जानकारी दी कि यूपी के औरेया जिले के अनंतराम कस्बे में रहने वाले शैलेंद्र सिंह ने व्हाट्सऐप के जरिए अफवाह फैलाई थी। शैलेंद्र ने 5 अप्रैल एक पोस्ट वायरस की जिसमें लिखा कि दिल्ली से आए 4-5 जमाती अनंतराम सराय में छुपे रहे और बीती रात गायब हो गए। जिसके बाद इसकी लिखित शिकायत अनंतराम निवासी अशफाख खां ने की। पुलिस ने राजस्व विभाग के अधिकारियों के साथ मौके पर जांच की तो वायरल पोस्ट में कोई सच्चाई नहीं पाई गई।


मामले की पड़ताल करने के लिए पुलिस जब शैलेंद्र के यहां पहुंची तो वह अपनी टेलरिंग व कॉसमेटिक की दुकान खोले बैठा था। उससे लॉकडाउन के दौरान दुकान खोलने और पोस्ट के बारे में पूछताछ की गई तो वह गाली-गलौच करने लगा और खुद को पत्रकार कहकर धमकी देने लगा।


पुलिस ने मामले की गंभीरता समझते हुए उसे गिरफ्तार कर लिया। साथ ही उसके ऊपर सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने, शासकीय कार्य में बाधा पहुंचाने, लॉकडाउन समेत कई धारा के तहत मामला दर्ज कर लिया।

गौरतलब है कि यूपी पुलिस ने अपने ट्विटर हैंडल के जरिए मीडिया और कथित पत्रकारों के जरिए फैलाई जारी अफवाहों को गलत बताया है।

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)