कभी स्मृति ईरानी ने खुद किया था येल की डिग्री का दावा, अब क्यों हलफनामे में नकारा

केंद्रीय मंत्री और अमेठी लोकसभा सीट से बीजेपी उम्मीदवार स्मृति ईरानी की डिग्री  एक बार विवादों में है। गुरुवार को चुनाव आयोग को दिए हलफनामे में स्मृति ईरानी ने बताया कि दिल्ली विश्वविद्यालय से उन्होंने स्नातक की पढ़ाई पूरी नहीं की है। अपने नामांकन के दौरान दिए हलफनामे में स्मृति ने कहा कि उन्होंने 1991 में सेकेंडरी स्कूल परीक्षा और 1993 में सीनियर सेंकेडरी स्कूल परीक्षा पास की।

स्मृति ईरानी कई बार ये कह चुकीं हैं कि उनके पास येल की डिग्री है। लेकिन इस बार जब 2019 में स्मृति ने चुनाव आयोग को हलफनामा सौंपा तो उसमें येल की डिग्री का कोई जिक्र नहीं था। अब ये मामला तूल पकड़ चुका है।


आपको बता दें कि 2004 से लेकर 2014 और अब 2019 में स्मृति ईरानी ने अपने  हलफनामे में अलग -अलग जानकारी दी है।


गौरतलब है कि कांग्रेस पहले भी स्मृति ईरानी की डिग्री को लेकर उन्हें घेरती आई है लेकिन इस बार जब स्मृति ने खुद को 12वीं पास बताया है तो कांग्रेस और भी हमलावर हो गई है।

स्मृति ईरानी के हलफनामे में बताई गई एजुकेशन पर कांग्रेस प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी ने तंज करते हुए कहा कि एक सीरियल आने वाला है जिसका नाम है, ‘क्योंकि मंत्री भी कभी ग्रेजुएट थीं’। स्मृति के टीवी सीरियल ‘क्योंकि सास भी कभी बहू थी’ की थीम पर गाना बनाते हुए प्रियंका ने कहा, क्वालिफिकेशन के भी रूप बदलते हैं, नए-नए सांचे में ढलते हैं, एक डिग्री आती है, एक डिग्री जाती है, बनते एफिडेविट नए हैं’। इसके लिए प्रियंका ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर गाना गाकर स्मृति पर निशाना साधा। कांग्रेस प्रवक्ता ने आगे कहा कि प्रियंका चतुर्वेदी ने कहा कि स्मृतिजी ने अपनी एजुकेशन क्वालिफिकेशन को लेकर एक चीज कायम की है कि किस तरीके से ग्रेजुएट से 12वीं क्लास के हो जाते हैं, वो मोदी सरकार से और मोदी सरकार में ही मुमकिन है।

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)