योग पूरी तरह से गरीब, जनजातीय लोगों तक पहुंचना बाकी : मोदी (लीड-3)

रांची, 21 जून (आईएएनएस)| लोगों से योग को जीवन का अभिन्न अंग बनाने का आग्रह करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि यह देश के गरीब लोगों और जनजातीय क्षेत्रों तक उतना नहीं पहुंचा है जितना होना पहुंचना चाहिए था। उन्होंने आदर्श वाक्य ‘शांति, सद्भाव और प्रगति के लिए योग’ भी दिया। मोदी ने पांचवें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर यहां प्रभात तारा मैदान में करीब 30,000 लोगों के साथ योग किया।

प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए, मोदी ने कहा, “आधुनिक योग गरीब और जनजातीय लोगों तक नहीं पहुंचा है। हमें योग को अपने जीवन का अभिन्न अंग बनाना होगा। गरीब लोग बीमारियों से अधिक पीड़ित होते हैं और यह उन्हें गरीब बनाता है.. योग गरीबी से बाहर आने का माध्यम है।”


उन्होंने बदलती दुनिया में कहा, “हमें बीमारी के लिए निवारक उपाय करने होंगे और कल्याण पर ध्यान केंद्रित करना होगा।”

उन्होंने कहा, “योग अनुशासन है। योग उम्र, अमीर, गरीब, जाति, धर्म, क्षेत्र और सीमाओं से परे है। योग सबका है और सब योग के हैं।”

मोदी ने कहा कि पिछले पांच वर्षो मेंयोग को सरकार द्वारा निवारक स्वास्थ्य देखभाल उपायों के साथ जोड़ा गया है। उन्होंने दिल की देखभाल के लिए योग को अपनाने पर जोर दिया।


मोदी ने स्वस्थ जीवन के लिए चार ्न’पी मंत्र’ दिए – पानी, पोषण, पर्यावरण और परिश्रम।

मोदी ने कहा, “मैं आप सभी से योग को अपनाने और इसे अपने जीवन का अभिन्न अंग बनाने का आग्रह करता हूं। योग प्राचीन और आधुनिक है। यह निरंतर और विकसित है। सदियों से योग का सार एक ही रहा है – स्वस्थ शरीर, स्थिर मन, अखंडता की भावना। मोदी ने कहा, “योग प्रत्येक व्यक्ति को विचारों, कार्यों और भाव में बेहतर बनाएगा।”

उन्होंने कहा, “योग हमेशा शांति और सद्भाव के साथ जुड़ा हुआ है। पांचवें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर, हमारा आदर्श वाक्य – ‘शांति, सद्भाव और प्रगति के लिए योग’ होने दें।”

मोदी ने योग में शोध की आवश्यकता पर भी जोर दिया ताकि योग के लाभों के बारे में दुनिया को नई जानकारियों से अवगत कराया जा सके।

45 मिनट के सत्र का संचालन नई दिल्ली स्थित मोरारजी देसाई राष्ट्रीय योग संस्थान के निदेशक एम. बासवा रेड्डी ने किया।

सत्र समाप्त होने के बाद, प्रधानमंत्री ने प्रतिभागियों के साथ समय बिताया, जहा बच्चों और युवाओं ने उनके साथ सेल्फी ली और हाथ मिलाया।

मोदी के साथ झारखंड की राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू, मुख्यमंत्री रघुबर दास, आयुष मंत्री श्रीपद नाइक, राज्य के स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र केसरी सहित अन्य वरिष्ठ सरकारी अधिकारी मौजूद थे।

 

(इस खबर को न्यूज्ड टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)