आतंकवाद पर अमेरिकी रिपोर्ट निराशाजनक : पाकिस्तान

इस्लामाबाद, 6 नवंबर (आईएएनएस)| आतंकवाद के खिलाफ अपर्याप्त प्रयासों पर पाकिस्तान को आड़े हाथ लेने वाली अमेरिकी रिपोर्ट पर पाकिस्तान ने निराशा जताई है और कहा है कि आतंकवाद के खिलाफ दी गई उसकी कुर्बानियों को रिपोर्ट में नजरअंदाज किया गया है। पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के एक बयान में अमेरिकी रिपोर्ट पर निराशा जताते हुए कहा गया है कि आतंकवाद के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय संघर्ष में पाकिस्तान के योगदान के कारण ही क्षेत्र से आतंकी संगठन अल कायदा का खात्मा हुआ है और इस योगदान ने दुनिया को एक सुरक्षित जगह बनाने में मदद दी है। इसके खिलाफ की जाने वाली कोई भी बात अवांछित है और द्विपक्षीय संबंधों की बेहतरी के पक्ष में नहीं है।

बयान में कहा गया है, “(अमेरिकी) रिपोर्ट में जमीनी सच्चाइयों को और आतंकवाद के खिलाफ बीते दो दशकों में पाकिस्तान की बेशुमार कुर्बानियों व योगदान को नजरअंदाज किया गया है।”


बयान में इस बात की भी जिक्र है कि ‘पाकिस्तान ने अफगानिस्तान में शांति के लिए अमेरिका और तालिबान के बीच बातचीत के लिए सभी प्रयास किए।’

बयान में कहा गया है कि आतंकवादी संगठनों पर लगाम लगाने के लिए पाकिस्तान ने बड़े पैमाने पर कानूनी व प्रशासनिक कदम उठाए हैं। आतंकी गिरोहों व व्यक्तियों की संपत्तियां जब्त की गई हैं और इनके लिए धन जमा करने के रास्ते बंद किए गए हैं। पाकिस्तान फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स व अपनी राष्ट्रीय कार्ययोजना के तहत ठोस कदम उठाने के लिए प्रतिबद्ध है।

 


(इस खबर को न्यूज्ड टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)

You May Like