नालंदा लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र, बिहार: वर्तमान सांसद, उम्मीदवार, मतदान तिथि और चुनाव परिणाम

नालंदा लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र, बिहार: वर्तमान सांसद, उम्मीदवार, मतदान तिथि और चुनाव परिणाम

बिहार का नालंदा लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र एकबार फिर से नया सांसद चुनने को तैयार है। 2014 के लोकसभा चुनाव में जदयू (जेडीयू) के कौशलेंद्र कुमार ने एनडीए खेमे से लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) प्रत्याशी सत्यानंद शर्मा को नजदीकी मुकाबले में हराया था। कांग्रेस के आशीष रंजन सिन्हा तीसरे स्थान पर रहे थे। इस बार एनडीए में शामिल हो चुकी जदयू ने फिर से कौशलेन्द्र कुमार पर भरोसा जताया है। महागठबंधन की ओर से हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (HAM) के टिकट पर अशोक कुमार आजाद चुनावी मैदान में हैं।

नालंदा लोकसभा सीट पर सातवें चरण में 19 मई को वोट डाले जाने हैं।


नालंदा अपने प्राचीन इतिहास के लिये पूरे विश्व में प्रसिद्ध है। यहां दुनिया के सबसे पुराने नालंदा विश्वविद्यालय के अवशेष आज भी हैं। गुप्त राजवंश के शासक कुमारगुप्त ने नालंदा विश्वविद्यालय की स्थापना की थी, जो विश्व का पहला आवासीय विश्वविद्यालय था। भगवान बुद्ध और महावीर से जुड़े कई घटनाक्रम यहां की धरोहर हैं। भगवान बुद्ध ने यहां प्रवास के दौरान राजगीर में सम्राट अशोक को उपदेश दिया था। यहां बौद्ध धर्म के प्रमुख ग्रंथ त्रिपिटक की रचना हुई थी। इसके अलावा भगवान महावीर की निर्वाण भूमि पावापुरी भी यहीं है। यहां पर्यटक विश्वविद्यालय के अवशेष, संग्रहालय, नव नालंदा महाविहार तथा ह्वेनसांग मेमोरियल हॉल देखने आते हैं। इस क्षेत्र में गर्म पानी के कई झरने हैं। यहां चीन का मन्दिर, जापान का मन्दिर और यहां की जामा मस्जिद प्रमुख दर्शनीय स्थल हैं।

नालंदा लोकसभा सीट का इतिहास

कभी पटना जिले का अनुमंडल रहा नालंदा आज 20 प्रखंडों का जिला है। पहले जिले के हरनौत व चंडी विधानसभा क्षेत्र बाढ़ लोकसभा क्षेत्र के हिस्से थे। परिसीमन के बाद चंडी विधानसभा क्षेत्र विलोपित कर पूरा जिला नालंदा लोकसभा क्षेत्र के दायरे में आ गया। नालंदा लोकसभा सीट पर 1971 के चुनाव तक कांग्रेस का कब्जा था। केंद्र में मंत्री और बाद में राज्‍यपाल बने सिद्धश्वर प्रसाद कांग्रेस के आखिरी सांसद थे। इसके बाद स्थिति बदली।

वर्ष 1985 में नीतीश कुमार के हरनौत से विधायक चुने जाने के बाद जिले की राजनीति में कांग्रेस का दबदबा घटने लगा। हरनौत विधानसभा के बाढ़ लोकसभा क्षेत्र में पड़ने से भले ही नीतीश का क्षेत्र नालंदा लोकसभा में न था, लेकिन, नालंदा निर्माण मंच व टाल विकास मोर्चा के बूते वे यहां की राजनीति में गहरी पैठ बनाने की कोशिश करते रहे। 1996 से आज तक समता पार्टी या जदयू का कब्जा है। पहले जॉर्ज फर्नांडिस और बाद में नीतीश कुमार के नाम से ही वोटों का ध्रुवीकरण होता आ रहा है। वर्तमान में जदयू के कौशलेंद्र कुमार यहां से सांसद हैं।


2014 लोकसभा चुनाव

2014 में नालंदा सीट पर जेडीयू के कौशलेंद्र कुमार की जीत हुई। उन्होंने एलजेपी प्रत्याशी सत्यानंद शर्मा को नजदीकी मुकाबले में हराया था। कौशलेंद्र कुमार को 3,21,982 वोट मिले जबकि सत्यानंद शर्मा को 3,12,355 वोट। जीत-हार का अंतर देखें तो यह 10 हजार से भी कम था और 1 प्रतिशत से भी कम वोट शेयर पर फैसला हुआ। तीसरे नंबर पर कांग्रेस रही जिसके प्रत्याशी आशीष रंजन सिन्हा को 1,27,270 वोट मिले।

नालंदा संसदीय सीट का समीकरण

नालंदा लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत अस्थावां, बिहारशरीफ, राजगीर, इस्लामपुर, हिलसा, नालंदा और हरनौत समेत 7 विधानसभा क्षेत्र आते हैं। इनमें राजगीर एससी रिजर्व सीट है। बाढ़ संसदीय क्षेत्र में पहले चंडी और हरनौत विधानसभा आते थे लेकिन परिसीमन के बाद चंडी विधानसभा समाप्त कर दिया गया और उसका हिस्सा हरनौत में शामिल हो गया। हरनौत को बाढ़ से हटाकर नालंदा में शामिल कर लिया गया।

यहां करीब 22 लाख वोटर हैं। जिनमें महिला मतदाता 9,88,325 और पुरुष मतदाता 11,14,006 हैं। नालंदा जिले में कुर्मी जाति के वोटर की संख्या ज्यादा है. यादव, पासवान, कोईरी और मुस्लिम यहां के चुनाव में निर्णायक भूमिका निभाते हैं।

इस बार जदयू ने सांसद कौशलेन्द्र कुमार को ही उम्मीदवार बनाया है। वहीं महागठबंधन ने ‘हम’ प्रत्याशी के रूप में चंद्रवंशी अशोक कुमार आजाद को टिकट दिया है। ये अति पिछड़ों में बेहतर पैठ रखने वाले हैं। उनकी ससुराल नालंदा में ही है। अंतत: जातीय समीकरण पर वोटिंग होती रही है। इस कारण, दोनों प्रत्याशियों के बीच कड़ा मुकाबला होने की उम्मीद है।

निवर्तमान सांसद: कौशलेंद्र कुमार

लोकसभा चुनाव 2014 के नतीजे

कौशलेंद्र कुमार, जदयू – 3,21,982
सत्यानंद शर्मा, लोजपा – 3,12,355
आशीष रंजन सिन्हा, कांग्रेस –  1,27,270

2019 लोकसभा चुनाव के लिए प्रमुख उम्मीदवार

  • कौशलेंद्र कुमार, जदयू/ NDA
  • अशोक कुमार आजाद, HAM/ महागठबंधन
  • शशि कुमार, NCP

सातवें चरण के चुनाव लिए महत्वपूर्ण तिथियां

अधिसूचना  जारी 22 अप्रैल
नामांकन दाखिल करने की अंतिम तिथि 29 अप्रैल
नामांकन पत्र की जांच 30 अप्रैल
नामांकन वापसी की अंतिम तिथि 2 मई
मतदान की तारीख 19 मई
मतगणना की तारीख 23 मई

लोकसभा चुनाव 2019: सातवें चरण में 19 मई को इन सीटों पर होगी वोटिंग, देखें राज्यवार सूची

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)