पूर्वी चंपारण लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र, बिहार: वर्तमान सांसद, उम्मीदवार, मतदान तिथि और चुनाव परिणाम

पूर्वी चंपारण लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र, बिहार: वर्तमान सांसद, उम्मीदवार, मतदान तिथि और चुनाव परिणाम

बिहार का पूर्वी चंपारण लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र एकबार फिर से नया सांसद चुनने को तैयार है। 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी के उम्मीदवार राधा मोहन सिंह ने राजद के विनोद कुमार श्रीवास्तव को हराया। तीसरे नंबर पर जदयू उम्मीदवार अवनीश कुमार सिंह रहे थे। इस बार बीजेपी ने केंद्रीय कृषि मंत्री और मौजूदा सांसद राधामोहन सिंह को ही फिर से चुनावी मैदान में उतारा है। वहीं, महागठबंधन खेमे से रालोसपा ने आकाश कुमार सिंह को प्रत्याशी बनाया है।

पूर्वी चंपारण लोकसभा सीट पर छठे चरण में 12 मई को वोट डाले जाने हैं।


भारतीय स्वतंत्रता के इतिहास में चंपारण सत्याग्रह का नाम स्वर्ण अक्षरों में अंकित है। स्वाधीनता संग्राम के समय चंपारण के ही स्वतंत्रता सेनानी राजकुमार शुक्ल के बुलावे पर महात्मा गांधी 1917 में मोतिहारी आए थे। 1971 में चंपारण को विभाजित कर बनाए गए पूर्वी चंपारण का मुख्यालय मोतिहारी है। इस क्षेत्र की सीमाएं नेपाल से जुड़ती हैं। पुराण में वर्णित है कि राजा उत्तानपाद के पुत्र भक्त ध्रुव ने यहां के तपोवन नामक स्थान पर ज्ञान प्राप्ति के लिए घोर तपस्या की थी। यह क्षेत्र देवी सीता की शरणस्थली भी रहा है। यहां भगवान बुद्ध ने लोगों को उपदेश दिए और विश्राम किया। यहां कई बौद्ध स्तूप भी हैं।  प्रसिद्ध अंग्रेजी लेखक जार्ज आरवेल का जन्म स्थान मोतिहारी ही है।

पूर्वी चंपारण लोकसभा सीट का इतिहास

आजादी के बाद सन 1971 तक यह कांग्रेस की परंपरागत सीट रही है। लगातार पांच बार यहां से विभूति मिश्र सांसद रह चुके हैं। पहली बार यहां से कांग्रेस 1977 में पराजित हुई। तब जनता पार्टी के ठाकुर रमापति सिंह इस सीट से विजयी रहे। दो बार 1980 तथा 1991 में यह सीट भाकपा तो दो बार 1998 व 2004 में यहां से राजद को सफलता मिली। पांच बार यहां से भाजपा के राधा मोहन सिंह विजयी रहे हैं। 2002 में लोकसभा सीटों के परिसीमन के लिए कमेटी बनी और 2008 में मोतिहारी सीट पूर्वी चंपारण के नाम से अस्तित्व में आया।अगले दो चुनाव 2009 और 2014 के दो चुनावों में राधामोहन सिंह को जीत हासिल हुई।

2014 का लोकसभा चुनाव

2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी के राधामोहन सिंह ने आरजेडी के विनोद कुमार श्रीवास्तव को मात दी। राधामोहन सिंह को 4,00,452 वोट मिले थे, जबकि राजद उम्मीदवार विनोद कुमार श्रीवास्तव को 2,08,289 वोट। तीसरे नंबर पर जेडीयू उम्मीदवार अवनीश कुमार सिंह रहे थे जिन्हें 1,28,604 वोट हासिल हुए थे।


पूर्वी चंपारण संसदीय सीट का समीकरण

पूर्वी चंपारण संसदीय क्षेत्र के अंतर्गत कुल छह विधानसभा सीटें आती हैं- हरसिद्धि (सुरक्षित), गोविंदगंज, केसरिया, कल्याणपुर, पीपरा और मोतिहारी। इनमें तीन सीटों पर बीजेपी का कब्जा है, जबकि दो पर राजद व एक पर लोजपा का वर्चस्व है। यहां कुल मतदाता 32 लाख 77 हजार 272 हैं।

यहाँ भाजपा व महागठबंधन में मुख्य लड़ाई है। भाकपा ने यहां प्रभाकर जायसवाल को टिकट दिया है। वह मुकाबले को त्रिकोणात्मक बनाने का प्रयास कर रहे हैं। राधामोहन सिंह भाजपा के वरिष्ठ नेता हैं। वर्तमान में केंद्र सरकार में कृषि मंत्री हैं। जिले के स्थापित नेता रहे हैं। उन्हें प्रधानमंत्री मोदी के नाम के साथ ही क्षेत्र में किए अपने कार्यों को लेकर समर्थन पाने की उम्मीद है।

वहीं महागठबंधन के उम्मीदवार आकाश प्रसाद सिंह भूमिहार जाति से हैं। वह अखिल भारतीय कांग्रेस चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष सह राज्यसभा सांसद अखिलेश प्रसाद सिंह के पुत्र हैं। क्षेत्र में उनकी पहचान पिता से जुड़ी है। अखिलेश यहां से 2004 में सांसद चुने गए थे।  उन्हें अपने स्वजातीय मतों को साधने के साथ-साथ महागठबंधन के माय समीकरण पर भरोसा है। साथ ही वीआईपी पार्टी व रालोसपा के उपेंद्र कुुशवाहा के कारण सहनी, कुशवाहा वोट व अनुसूचित जाति के वोट को अपना मान रहे हैं। जातिवाद के घालमेल में पूर्वी चंपारण सीट पर जीत किस प्रत्याशी की होगी, यह अनुमान लगाना सहज नहीं है।

निवर्तमान सांसद: राधा मोहन सिंह

लोकसभा चुनाव 2014 के नतीजे

राधा मोहन सिंह, बीजेपी – 4,00,452
बिनोद कुमार श्रीवास्तव, राजद –  2,08,289
अवनीश कुमार सिंह, जेडीयू – 1,28,604

2019 लोकसभा चुनाव के लिए प्रमुख उम्मीदवार

  • राधा मोहन सिंह, बीजेपी/एनडीए
  • आकाश कुमार सिंह, रालोसपा/महागठबंधन
  • प्रभाकर जायसवाल, सीपीआई

छठे चरण के चुनाव लिए महत्वपूर्ण तिथियां

अधिसूचना  जारी 10 अप्रैल
नामांकन दाखिल करने की अंतिम तिथि 16 अप्रैल
नामांकन पत्र की जांच 23 अप्रैल
नामांकन वापसी की अंतिम तिथि 24 अप्रैल
मतदान की तारीख 12 मई
मतगणना की तारीख 23 मई

लोकसभा चुनाव 2019: छठे चरण में 12 मई को इन सीटों पर होगी वोटिंग, देखें राज्यवार सूची

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)