सीवान लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र, बिहार: वर्तमान सांसद, उम्मीदवार, मतदान तिथि और चुनाव परिणाम

सीवान लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र, बिहार: वर्तमान सांसद, उम्मीदवार, मतदान तिथि और चुनाव परिणाम

बिहार का सीवान लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र एकबार फिर से नया सांसद चुनने को तैयार है। 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी प्रत्याशी ओमप्रकाश यादव ने राजद की हिना शहाब को 1 लाख से ज्यादा वोटों से हराया। सीपीआई माले के अमरनाथ यादव ने 81 हजार वोट और जेडीयू के मनोज सिंह ने 79,239 वोट हासिल किए। इस बार सीवान सीट जदयू के खाते में आई है और पार्टी ने कविता सिंह को टिकट दिया है। वहीं, महागठबंधन खेमे से राष्ट्रीय जनता दल (राजद) ने फिर से हिना शहाब को मैदान में उतारा है।

सीवान लोकसभा सीट पर छठे चरण में 12 मई को वोट डाले जाने हैं।


सीवान बिहार के उत्तर पश्चिमी छोर पर बसा है। दाहा नदी के किनारे बसे इस इलाके की सीमाएं उत्तर प्रदेश से जुड़ती हैं। भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉ॰ राजेन्द्र प्रसाद की जन्मभूमि के लिए सीवान को जाना जाता है। इसका नामकरण मध्यकाल में यहां के राजा शिवमान के नाम पर हुआ है। यहां गन्ना मिल्स, प्लास्टिक फैक्ट्री, सूत फैक्ट्रियां बड़ी संख्या में हैं। समय के साथ इस जिले की पहचान बदल गई। बताते हैं इंटनेशनल चोर नटरवल लाल इसी जिले का था। बाद में शहाबुद्दीन के आतंक से यह जिला हमेशा सुर्खियों में बना रहा।

सीवान लोकसभा सीट का इतिहास

कभी सीवान पूर्व सांसद जर्नादन तिवारी के नेतृत्व में जनसंघ का गढ़ हुआ करता था। लेकिन 1980 के दशक के आखिर में मोहम्मद शहाबुद्दीन के उदय के बाद जिले की राजनीतिक तस्वीर बदल गई। बाहुबली नेता मोहम्मद शहाबुद्दीन 1996 से लगातार चार बार सांसद बने। राजनीति में एमए और पीएचडी करने वाले शहाबुद्दीन ने बाहुबल के जरिए सीवान में अपना दबदबा कायम किया। जेल में रहते हुए भी उन्होंने वर्ष 2004 में लोकसभा चुनाव में जीत दर्ज की थी। इससे पहले मो. शहाबुद्दीन जीरादेई से दो बार विधायक चुने गये। तब माना गया कि सीवान में नक्सलवाद के बढ़ते प्रभाव के डर से हर वर्ग और जाति के लोगों ने शहाबुद्दीन को समर्थन किया।

लेकिन सीवान के चर्चित तेजाब कांड के मामले में शहाबुद्दीन को उम्र कैद की सजा होने के बाद यहां की सियासी तस्वीर में बड़ा बदलाव देखने को मिला। कानूनी शिकंजा कसने के बाद कोर्ट ने शहाबुद्दीन के चुनाव लड़ने पर रोक लगा दी। शहाबुद्दीन के जेल जाने के बाद यहां ओमप्रकाश यादव नेता के तौर पर उभरे। 2009 में ओमप्रकाश यादव ने निर्दलीय चुनाव लड़कर शहाबुद्दीन की पत्नी हिना शहाब को हराकर भाजपा का दामन थाम लिया। इसके बाद 2014 में मोदी लहर में ओमप्रकाश फिर हिना शहाब को हराकर सांसद बने।


2014 का लोकसभा चुनाव

2014 के चुनाव की बात करें तो सीवान के सांसद ओमप्रकाश यादव को 3,72,670 वोट मिले थे। उन्‍होंने राजद की हिना शहाब को 1 लाख 13 हजार वोटों से हराया। राजद प्रत्‍याशी हीना शहाब को 2,58,823 वोट मिले थे। वहीं सीपीआई माले के अमरनाथ यादव ने 81 हजार वोट और जेडीयू के मनोज सिंह ने 79,239 वोट हासिल किए।

सीवान संसदीय सीट का समीकरण

सीवान संसदीय क्षेत्र के अंतर्गत 6 विधानसभा सीटें आती हैं- सीवान, जीरादेई, दरौली, रघुनाथपुर, दरौंदा और बरहड़िया। 2015 के बिहार विधानसभा चुनाव में इन 6 में तीन सीटों पर जेडीयू के उम्मीदवार जीते। जबकि एक-एक सीट बीजेपी-आरजेडी और सीपीआई(ML)(L) के खाते में गईं। सीवान लोकसभा क्षेत्र में मतदाताओं की कुल संख्या 23,99,242 है। इनमें से महिला मतदाता 1145908 और पुरुष मतदाता 1253334 हैं।

सीवान में यादव-राजपूत जातियों और मुस्लिम समुदाय का खासा प्रभाव है। हालांकि इस बार चुनाव परिणाम पर अति पिछड़ी जातियों का प्रभाव पड़ने की संभावना है। यहाँ जिन दो प्रमुख महिला प्रत्याशियों के बीच मुख्य मुकाबला माना जा रहा है, उनके पतियों की छवि बाहुबली राजनीतिक नेता की है। एक ओर एनडीए से जेडीयू के टिकट पर दरौंधा की विधायक और बाहुबली अजय सिंह की पत्नी कविता सिंह हैं तो दूसरी ओर राजद के पूर्व सांसद और बाहुबली नेता मो. शहाबुद्दीन की पत्नी हिना शहाब हैं।

जेडीयू प्रत्याशी के पति अजय सिंह सीवान में हिंदू युवा वाहिनी के प्रमुख हैं। इस कारण यहां चुनाव प्रचार में ‘भगवा बनाम बुर्का’ की चर्चा है। अजय सिंह अपनी पत्नी के समर्थन में चुनाव प्रचार के दौरान हिना के बुर्के, शहाबुद्दीन की आपराधिक छवि और पाकिस्तान की बातें भी करते रहे हैं। हालांकि स्वयं अजय सिंह की छवि एक बाहुबली की है और उन पर कई आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं। इसके अलावा उनके विवादित बयान भी कविता सिंह के लिए परेशानी का सबब बन सकते हैं। कुछ ब्राह्मणों पर की गई टिप्‍पणी से इस तबके में भी नाराजगी है।

निवर्तमान सांसद: ओम प्रकाश यादव

लोकसभा चुनाव 2014 के नतीजे

ओम प्रकाश यादव, बीजेपी – 3,72,670
हिना शहाब, राजद – 2,58,823
अमरनाथ यादव, सीपीआई (एमएल) – 81,006

2019 लोकसभा चुनाव के लिए प्रमुख उम्मीदवार

  • कविता सिंह, जदयू/एनडीए
  • हिना शहाब, राजद/महागठबंधन
  • वाल्मीकि प्रसाद गुप्ता, बहुजन समाज पार्टी

छठे चरण के चुनाव लिए महत्वपूर्ण तिथियां

अधिसूचना  जारी 10 अप्रैल
नामांकन दाखिल करने की अंतिम तिथि 16 अप्रैल
नामांकन पत्र की जांच 23 अप्रैल
नामांकन वापसी की अंतिम तिथि 24 अप्रैल
मतदान की तारीख 12 मई
मतगणना की तारीख 23 मई

लोकसभा चुनाव 2019: छठे चरण में 12 मई को इन सीटों पर होगी वोटिंग, देखें राज्यवार सूची

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)