कोई दीवार इतनी ऊंची नहीं कि तोड़ी ना जा सके : मर्केल

बर्लिन, 10 नवंबर (आईएएनएस)| जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल ने बर्लिन की दिवार गिराए जाने के 30 साल पूरे होने के मौके पर एक समारोह में लोकतंत्र को हल्के में नहीं लेने की चेतावनी दी। बीबीसी के मुताबिक, मर्केल ने शनिवार को कहा, “कोई भी दीवार जो लोगों को बाहर रखे और स्वतंत्रता को प्रतिबंधित करे.वह इतनी ऊंची नहीं हो सकती कि तोड़ी ना जा सके।”

शीत युद्ध के दौरान दीवार ने सोवियत-नियंत्रित पूर्वी बर्लिन और पूंजीवादी पश्चिम बर्लिन को अलग कर दिया था।


1989 में इस दीवार को गिराने को उदार लोकतंत्र की जीत के रूप में देखा गया और इसके एक साल बाद जर्मनी का फिर से एकीकरण हुआ।

हालांकि, मर्केल ने शनिवार को चेतावनी दी कि “जिन मूल्यों पर यूरोप की आधारशिला रखी गई है – स्वतंत्रता, लोकतंत्र, समानता, कानून का शासन, मानवाधिकार – ये अपने आप में जाहिर हैं और इनको समय-समय पर पुनर्जीवित करना और इनका बचाव करना होगा।”

बर्लिन वॉल मेमोरियल में एक समारोह में उन्होंने कहा, हमें स्वतंत्रता और लोकतंत्र में अपनी भूमिका निभाने की जरूरत है।


बर्लिन की दीवार मध्य और पूर्वी यूरोप में 1989 में हुई क्रांतियों के दौरान गिराई गई थी।

 

(इस खबर को न्यूज्ड टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)

You May Like