मध्य प्रदेश: 500 में से 499 नंबर लाकर चौकीदार का बेटा बना 12वीं का टॉपर

मध्य प्रदेश: 500 में से 499 नंबर लाकर चौकीदार का बेटा बना 12वीं का टॉपर

 सागर। अभाव और गरीबी के बादल प्रतिभा की रोशनी को नहीं रोक सकते, यह साबित किया है सागर के आयुष्मान ताम्रकार ने। आयुष्मान ने मध्य प्रदेश की हाईस्कूल की परीक्षा में गगन त्रिपाठी के साथ संयुक्त रूप से पहला स्थान पाया है। आयुष्मान के पिता विमल ताम्रकार एक विवाह घर की चौकीदारी करते हैं।

आयुष्मान सागर के शासकीय बहुउद्देशीय उत्कृष्ट विद्यालय के छात्र हैं और उन्होंने इस बार हाईस्कूल की परीक्षा में 500 में से 499 अंक हासिल किए हैं। आयुष्मान के परिवार का जीवन अभाव और समस्याओं से घिरा हुआ है। आर्थिक संकट उनकी जिंदगी हिस्सा है। उनके पिता विमल को विवाह घर की चौकीदारी से जो पैसा मिलता है, उसी से परिवार का उदर पोषण होता है। आयुष्मान की मां बरखा मजदूरी करके परिवार को थोड़ी मदद करती हैं।


आयुष्मान अपनी सफलता से खुश हैं और सफलता का श्रेय गुरुजनों और माता-पिता को देते हैं। वह बताते हैं, “मैं सोशल मीडिया से दूर हूं। सोशल मीडिया पर तो कभी भी जा सकते हैं, लेकिन पढ़ाई का लक्ष्य पूरा नहीं हो सकता है, इसलिए मैंने पढ़ाई को प्राथमिकता दी है।”

आयुष्मान अपनी जुड़वा बहन आयुशी के साथ पढ़ाई करता था, और वह अब इंजीनियर बनना चाहता है।

माध्यमिक शिक्षा मंडल परीक्षा का नतीजा बुधवार को जब आया, तब आयुष्मान के पिता अपनी ड्यूटी पर थे। उन्हें बेटे की सफलता का पता चला तो वह खुशी से उछल पड़े। आयुष्मान के परिवार की खुशी उस समय दोगुनी हो गई जब उसकी बहन आयुशी ने भी 10वीं की परीक्षा में 92 प्रतिशत अंक हासिल किए।


आयुष्मान की मां बरखा को बेटे की आगे की पढ़ाई की चिंता है। वह कहती हैं, “आगे की पढ़ाई कैसे होगी, क्यांेकि पैसे नहीं हैं। अभी तो घर खर्च बड़ी मुश्किल से चल पाता है। आयष्मान दूसरांे की दुकान बैठकर अपना खर्च निकालता था। बेटा बड़ा इंजीनियर बने यही इच्छा है।”

सागर के मोहननगर वार्ड की तंग गली में आधे कच्चे-पक्के मकान में रहने वाले आयुष्मान के घर आने-जाने वालों का मजमा लगा हुआ है। कोई उनके साथ सेल्फी लेना चाह रहा है तो कोई उनकी सफलता की कहानी जानने बेतब है। क्योंकि आयुष्मान एक उदाहरण बन सके हैं।

उल्लेखनीय है कि मध्य प्रदेश बोर्ड के 10वीं और 12वीं के परिणाम बुधवार को घोषित कर दिए गए। हायर सेकेंडरी (12वीं) में 72.37 प्रतिशत और हाईस्कूल (10वीं) में 61.32 प्रतिशत विद्यार्थी सफल हुए हैं। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने विद्यार्थियों को बधाई और शुभकामनाएं दी हैं।

(इस खबर को न्यूज्ड टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)