प्रधानमंत्री ने की ‘मन की बात’ (लीड-1)

नई दिल्ली, 23 फरवरी (आईएएनएस)| प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ के 62 वें संस्करण के दौरान एकता और ‘नारी शक्ति’ और युवाओं के वैज्ञानिक सोच और साहसिक खेलों के महत्व को बढ़ाने के बारे में बात की। इसके साथ ही उन्होंने देशवासियों को आगामी त्योहार होली, गुड़ी पाड़वा और भारतीय नववर्ष के शुभकामनाएं दीं। वहीं प्रधानमंत्री ने यह भी याद दिलाया कि त्योहार आपस में एकता बनाए रखने का संदेश देता है। मोदी ने कहा, “बच्चों एवं युवाओं में वैज्ञानिक सोच को बढ़ाने के लिए एक और प्रणाली की शुरुआत की गई है, जो है आंगतुकों के लिए एक ऐसी गैलरी, जिसमें एक साथ 10,000 लोग बैठ सकते हैं, अब आप श्रीहरिकोटा में होने वाले रॉकेट लॉन्च को अपनी आंखों के सामने से देख सकते हैं।

महिला सशक्तिकरण की बात करते हुए उन्होंने कहा कि भारतीय महिलाएं नई ऊंचाईयां छू रही हैं। उन्होंने बिहार के पुर्णिया क्षेत्र का उदाहरण दिया और एक 12 साल की लड़की के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि पुर्णिया की महिला किसान न सिर्फ साड़ी बनाती हैं, बल्कि उन्हें बड़े मेलों में बेचती भी हैं, वहां अपनी स्टॉल भी लगाती हैं।


मोदी ने कहा, “महिलाओं की उद्यमिता, हमारे देश की बेटियां और उनका साहस हम सभी के लिए गर्व का विषय है। मैं आपके साथ खास तौर पर 12 वर्षीय काम्या कार्तिकेयन की उपलब्धि साझा करना चाहूंगा।”

वहीं पर्यावरण पर ध्यान केंद्रित करते हुए उन्होंने कहा, “बायोजेट ईंधन अखाद्य वृक्ष जनित तेल से तैयार किया जाता है। इसे भारत के कई जनजातीय क्षेत्रों से प्राप्त किया जाता है। यह प्रयास न सिर्फ कार्बन-उत्सर्जन को कम करेगा, बल्कि भारत की कच्चे तेल की आयात की निर्भरता को भी कम करेगा।”

भारत की जैव विविधता को असाधारण खजाना बताते हुए उन्होंने भारतीयों को इसका पता लगाने के लिए आमंत्रित किया। इसके अलावा उन्होंने प्रवासी प्रजातियों के लिए स्थाई निवास बनाने के भारत के प्रयास के बारे में भी कहा। उन्होंने मेघालय में पाई गई विश्व की सबसे बड़ी गुफा मछली की हाल ही में हुई खोज का भी जिक्र किया।


प्रधानमंत्री ने हुनर हाट के अपने अनुभव को भी साझा किया, जहां उन्होंने बिहार की प्रसिद्ध लिट्टी-चोखा का स्वाद चखा था।

प्रधानमंत्री ने हाट के दौरे को एक यादगार अनुभव बताया और अपने संबोधन के दौरान एक खास घटना का जिक्र भी किया। मोदी ने कहा, “हुनर हाट में एक दिव्यांग महिला के शब्दों को सुनकर बहुत संतोष मिला। उन्होंने मुझे बताया कि पहले वह फुटपाथ पर अपनी पेंटिंग बेचा करती थीं। लेकिन हुनर हाट का हिस्सा बनने के बाद उनका जीवन बदल गया।”

हमेशा की तरह इस बार भी उनके रेडियो कार्यक्रम के दौरान उन्होंने अपने जीवन के अनुभवों को साझा किया। उन्होंने गुजरात और उत्तर प्रदेश की प्रेरक कहानियों के बारे में बात की, जिसे उन्होंने ‘मानव की दृढ़ संकल्प शक्ति’ का परिणाम बताया।

कार्यक्रम के अंत में प्रधानमंत्री ने भारतीयों से आने वाले महीनों में रोमांचक खेलों का आनंद लेने का अनुरोध किया। उन्होंने कहा, “आने वाले दिन रोमांचक खेलों में भाग लेने के लिए और उसका हिस्सा बनने के लिए एकदम सही होंगे। क्या आप तैयार हैं?”

 

(इस खबर को न्यूज्ड टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)