स्टैच्यू ऑफ यूनिटी को बेचने के लिए OLX पर दिया विज्ञापन, 30 हजार करोड़ लगाई कीमत, जांच में जुटी पुलिस

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी को बेचने के लिए OLX पर दिया विज्ञापन, 30 हजार करोड़ लगाई कीमत, जांच में जुटी पुलिस

कोरोना वायरस संकट और लॉकडाउन के बीच एक अजीबोगरीब घटना सामने आई है। दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति ‘द स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ (Statue of Unity) को ओएलएक्स (OLX) पर ‘सेल’ लिए डालकर सबको हैरान कर दिया है। देश के पहले गृहमंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल को समर्पित इस मूर्ति को ओएलक्स पर बिक्री के लिए डालने को लेकर स्थानीय पुलिस हरकत में आ गई है और मामले की जांच में जुट गई है। बाद में कंपनी (OLX) ने इस आपत्तिजनक पोस्ट को अपनी साइट से हटा दिया।

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी बेचने के लिए ऑनलाइन विज्ञापन देने वाले अनजान व्यक्ति के खिलाफ नर्मदा जिले की केवडिया पुलिस ने एफआईआर दर्ज की है। ओएलएक्स वेबसाइट पर दिए गए इस विज्ञापन में स्टैच्यू की कीमत 30 हजार करोड़ लगाई गई थी। विज्ञापन में कहा गया था कि स्टैच्यू बेचकर कोरोना का इलाज करने में जुटे अस्पतालों और इसकी सुविधाओं पर होने वाले सरकार के खर्च की भरपाई की जाएगी।


‘अस्पताल और स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए पैसों की जरूरत’

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार ‘द स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ को सेल के लिए दिए विज्ञापन में लिखा गया था, ‘इमरजेंसी! Statue of Unity बेच रहे हैं क्योंकि कोरोना वायरस पर काबू पाने के लिए अस्पताल और स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए पैसों की जरूरत है। मामले की खबर स्थानीय समाचार पत्रों पर छपने के बाद लोगों को इस बारे में जानकारी हुई तो होश उड़ गए।

Statue of Unity परिसर के असिस्टेंट कमिश्ननर नीलेश दुबे द्वारा जारी प्रेस रिलीज में कहा गया कि एक अज्ञात व्यक्ति ने बदइरादे से सरकार को बदनाम करने के लिए स्टैच्यू ऑफ यूनिटी को ओएलएक्स पर सेल के लिए डाला था। इसके बावजूद कि उस व्यक्ति को इस प्रकार का कोई अधिकार नहीं था। इस घटना से यह भी साबित होता है कि कंपनी ओएलएक्स अपने यहां आने वाले विज्ञापनों की जांच नहीं की और साइट पर पब्लिश होने की अनुमति दे दी।

अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ आईपीसी की धारा 505 (अफवाह फैलाने), धारा 417 (धोखाधड़ी), धारा 469 (जालसाजी) और अन्य संबंधित धाराओं में एफआईआर दर्ज करा दी गई है। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि एफआईआर दर्ज कर ली गई है और आरोपी का पता लगाया जा रहा है।


बता दें कि 31 अक्टूबर 2018 को स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी ने किया था। इसकी ऊंचाई 182 मीटर(597 फीट) है और यह दुनिया की सबसे बड़ी स्टैच्यू है। इसे देखने दुनिया भर से बड़ी मात्रा में टूरिस्ट पहुंचते हैं। कोरोना वायरस के चलते इस साइट को गुजरात सरकार ने 17 मार्च से बंद कर दिया है।


गुजरात में कोरोना के एक दिन में सबसे ज्यादा 14 मामले, 1 की मौत

गुजरात में कोरोना के मरीजों का आंकड़ा 100 के पार, 10 की मौत

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)