BJP सांसद राजेंद्र अग्रवाल का विवादित ट्वीट, लिखा-करकरे बिना तैयारी के गए थे आतंकियों से लड़ने

BJP सांसद राजेंद्र अग्रवाल का विवादित ट्वीट, लिखा-करकरे बिना तैयारी के गए थे आतंकियों से लड़ने

26/11 मुंबई आंतकी हमले में शहीद हुए आईपीएस हेमंत करकरे पर सियासत जारी है। हालही में भोपाल से बीजेपी उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने विवादित टिप्पणी के माफी मांगी तो अब बीजेपी सांसद राजेंद्र अग्रवाल ने हेमंत करकरे की शहादत के लिए उन्हें ही दोषी ठहरा दिया।

गौरतलब है कि, यूपी के मेरठ से बीजेपी सांसद राजेंद्र अग्रवाल  ने ट्वीट किया, “शहीद” हेमंत करकरे A.T.S के ऐसे प्रमुख थे जो आतंकवादियों से मुकाबला करने के लिए बिना तैयारी के गए तथा जिनकी जीप आतंकवादियों ने छीन कर अपनी गतिविधियों में उसका उपयोग किया।


BJP सांसद राजेंद्र अग्रवाल का विवादित ट्वीट, लिखा-करकरे बिना तैयारी के गए थे आतंकियों से लड़ने

हालांकि विवाद बढ़ने के बाद उन्होंने ट्वीट डिलीट कर दिया और सफाई देते कहा कि शहीद हेमंत करकरे से संबंधित ट्वीट मैंने नहीं डाला किसी ने मेरे ट्विटर हैंडल का दुरुपयोग किया।


आपको बता दें कि इससे पहले साध्वी प्रज्ञा ने हेमंत करकरे को लेकर विवादित टिप्पणी करने पर माफी मांग ली, लेकिन राजेंद्र अग्रवाल फिर से टिप्पणी करने से नहीं चूके। साध्वी ने अपना विवादित बयान वापस लेते हुए इसके लिए क्षमा मांगी है। साध्वी ने कहा कि क्योंकि मैं (प्रज्ञा) किसी समय इमोशनल हो गई थी। मैं रो रही थी। इसलिये मेरे मुख से जो निकला, उसके लिए क्षमा मांगती हूं। उन्होंने कहा कि उनके बयान से किसी कि भावना को ठेस पहुंची है या कष्ट हुआ है तो वह माफी मांगती हैं।

इससे पहले हेमंत करकरे पर यातना देने का आरोप लगाते हुए प्रज्ञा ने कहा था, मैंने उन्हें (करकरे) सर्वनाश होने का शाप दिया था और इसके सवा माह बाद आतंकवादियों ने उन्हें मार दिया।

आपको बता दें कि आईपीएस एसोसिएशन ने ट्वीट कर कहा है कि अशोक चक्र से सम्मानित आईपीएस हेमंत करकरे ने आतंकवादियों से लड़ते हुए सर्वोच्च बलिदान दिया. वो हममें से एक हैं लेकिन एक चुनावी उम्मीदवार द्वारा दिए गए अपमानजनक बयान की हम निंदा करते हैं और मांग करते हैं कि हमारे सभी शहीदों के बलिदान का सम्मान किया जाए।

इस मामले में सियासत ने तूल पकड़ लिया है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल ने ट्वीट कर कहा, ‘‘हेमंत करकरे ने भारत की रक्षा करते हुए अपना जीवन बलिदान कर दिया। उनका सम्मान किया जाना चाहिए।

आपको बता दें कि मामले को तूल पकड़ता देख बीजेपी ने साध्वी के बयान से खुद को अलग कर लिया था, लेकिन इसके बावजूद पार्टी के एक अन्य नेता ने विवादित बयान देकर राजनीतिक गलियारों में फिर से हलचल मचा दी है।

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)