कोरोना वायरस की जांच अब की जाएगी बड़े पैमाने पर, ICMR ने दी कई लैब्स को मंजूरी

कोरोना वायरस की जांच अब की जाएगी बड़े पैमाने पर, ICMR ने दी कई लैब्स को मंजूरी

भारत में कोरोना वायरस के मामले रोज तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। इसी को देखते भारतीय चिकित्सा शोध परिषद (Indian Council of Medical Research, ICMR) ने कई लैब्स को कोविड-19 जांच करने की मान्यता दे दी है। इसके साथ ही आइसीएमआर ( ICMR) ने रक्त नमूनों से एंटीबॉडी परीक्षण को भी मंजूरी दे दी है। अब डिपार्टमेंट आफ बायोटेक्नोलॉजी (DBT), डिपार्टमेंट आफ साइंस एंड टेक्नालॉजी (DST), काउंसिल ऑफ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च (CSIR) और डिपार्टमेंट ऑफ एटॉमिक रिसर्च (DAE) की लैब्स में कोविड-19 के सैम्पल्स की जांच हो सकेगी।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, आइसीएमआर (CSIR)के एक अधिकारी ने बताया कि इन संस्थाओं की लैब को कोरोना की जांच शुरू करने से पहले परिषद द्वारा जारी दिशा निर्देशों का कड़ाई से पालन करने को कहा गया है। आइसीएमआर की ओर से कहा गया कि यह वायरस बहुत ही खतरनाक है। इसका नमूने कई स्तरों से होकर जांच के लिए पहुंचते हैं। किसी भी स्तर पर अप्रशिक्षित कर्मचारी नहीं लगाया जा सकता। जरा सी भी लापरवाही में यह वायरस लैब को संक्रमित कर सबके लिए मुसीबत खड़ी कर सकता है।


आईसीएमआर (ICMR) इन लैब्स को जांच किट और रसायन उपलब्ध नहीं कराएगा

आइसीएमआर (CSIR) की ओर से स्पष्ट किया गया है कि कि वह इन संस्थाओं को कोई जांच किट या रसायन उपलब्ध नहीं करायेगी। ये लैब सरकारी संस्थाओं और सरकारी अभियानों द्वारा भेजे गये नमूनों की ही जांच करेंगी। परिषद ने कहा कि ये लैब उच्च स्तर के संस्थानों के अधीन हैं। आइसीएमआर (CSIR) ने मेडिकल कचरे के निस्तारण के लिए नियमों का कड़ाई से पालन करने को भी कहा है।

भारत के स्वास्थ्य मंत्रालय की आधिकारिक वेबसाइट पर जारी कोरोना वायरस के आंकड़े के मुताबकि इस समय 2323 कोरोना के एक्टिव केस हैं जबकि 162 लोग ठीक हो चुके हैं। साथ ही 62 लोगों की कोरोना वायरस से मौत भी हुई है।वहीं, मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, भारत में कोरोना के अबतक 3 हजार से ज्यादा मामले आ चुके हैं जबकि 70 लोगों की मौत हो चुकी है।


(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)