वाराणसी लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र, उत्तर प्रदेश: वर्तमान सांसद, उम्मीदवार, मतदान तिथि और चुनाव परिणाम

वाराणसी लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र, उत्तर प्रदेश: वर्तमान सांसद, उम्मीदवार, मतदान तिथि और चुनाव परिणाम

उत्तर प्रदेश का वाराणसी लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र एकबार फिर से नया सांसद चुनने को तैयार है। 2014 के लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी की ओर से प्रधानमंत्री पद के दावेदार नरेंद्र मोदी ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को भारी अंतर से पराजित किया था। कांग्रेस के अजय राय तीसरे स्थान पर रहे थे। इस बार बीजेपी की ओर से पीएम नरेंद्र मोदी फिर से दावेदारी पेश कर रहे हैं। समाजवादी पार्टी की ओर से पहले तेज बहादुर यादव ने पर्चे भरा था। लेकिन नामांकन खारिज हो जाने के बाद पार्टी ने शालिनी यादव को प्रत्याशी बनाया। वहीं कांग्रेस ने अजय राय पर ही दांव आजमाया है।

वाराणसी लोकसभा सीट पर सातवें चरण में 19 मई को वोट डाले गए। मतदान प्रतिशत 58.05 फीसदी रहा।


वाराणसी, उत्तर प्रदेश का एक प्राचीन एवं प्रसिद्ध शहर है। इसे ‘बनारस’ और ‘काशी’ के नाम से भी जाना जाता है। इसके अलावा इसे मंदिरों का शहर’, ‘भारत की धार्मिक राजधानी’, ‘भगवान शिव की नगरी’, ‘दीपों का शहर’, ‘ज्ञान नगरी’ इत्यादि नामों से भी संबोधित किया जाता है। इसे हिंदू धर्म में सबसे पवित्र नगरों में से एक माना जाता है। इसके अलावा बौद्ध और जैन धर्म में भी इसे पवित्र माना जाता है। हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत के बनारस घराना का नाता वाराणसी से ही है।

भारत के कई दार्शनिक, कवि, लेखक, संगीतज्ञ वाराणसी में रहे हैं, जिनमें कबीर, वल्लभाचार्य, रविदास, स्वामी रामानंद, मुंशी प्रेमचंद, जयशंकर प्रसाद, आचार्य रामचंद्र शुक्ल, पंडित रवि शंकर, गिरिजा देवी, पंडित हरि प्रसाद चौरसिया एवं उस्ताद बिस्मिल्लाह खां। वाराणसी का अस्‍सी घाट, दशाश्वमेध घाट, मणिकर्णिका घाट, सिंधिया घाट, गंगा घाट, ललिता घाट, सारनाथ और श्री काशी विश्वनाथ मंदिर भी यहां के प्रमुख पर्यटन स्थल हैं। बनारस का बुनकर उद्योग काफी मशहूर है और यहाँ की रेशमी साड़ियां भी काफी पॉपुलर हैं।

वाराणसी लोकसभा सीट का इतिहास

पहले आम चुनाव में वाराणसी से कांग्रेस के रघुनाथ शर्मा ने सोशलिस्ट पार्टी के विश्वनाथ शर्मा को चुनाव हराया था। वाराणसी लोकसभा सीट पर अब तक 16 लोकसभा चुनाव हुए हैं। इनमें से सात बार कांग्रेस और छह बार भाजपा जीती है। इसके अलावा यहां से एक-एक बार जनता दल और सीपीएम उम्मीदवार को भी जीत नसीब हुई है। वहीं, भारतीय लोकदल ने भी इस सीट पर एक बार जीत हासिल की है जबकि, समाजवादी पार्टी और बसपा को इस सीट पर अभी तक कभी भी जीत नसीब नहीं हुई है।


वाराणसी लोकसभा सीट से कई दिग्गज नेता चुनाव जीतकर आए हैं। इनमें पूर्व प्रधानमंत्री चंद्र शेखर से लेकर यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री कमलापति त्रिपाठी शामिल हैं। इस सीट से मुरली मनोहर जोशी और पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के बेटे अनिल शास्त्री भी विजयी रहे हैं। 2009 का चुनाव इस सीट से भाजपा के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष मुरली मनोहर जोशी ने जीता था। 2014 में उन्होंने इस सीट को मोदी के लिए छोड़ा था।

2014 का लोकसभा चुनाव

2014 के लोकसभा चुनाव में मुख्य मुकाबला भारतीय जनता पार्टी की ओर से प्रधानमंत्री पद के दावेदार नरेंद्र मोदी और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के बीच था। नरेंद्र मोदी ने आसान मुकाबले में केजरीवाल को 3,71,784 मतों के अंतर से हराया था। मोदी को कुल पड़े वोटों में 581,022 वोट हासिल हुए जबकि आम आदमी पार्टी के प्रत्याशी अरविंद केजरीवाल के खाते में 2,09,238 वोट पड़े। तीसरे नंबर पर कांग्रेस के उम्मीदवार अजय राय रहे जिनके खाते में महज 75,614 वोट ही पड़े।

याद रहे कि नरेंद्र मोदी ने 2014 में वाराणसी के अलावा गुजरात के वडोदरा से भी चुनाव लड़ा था और दोनों ही जगह से जीत हासिल की थी, लेकिन उन्होंने वाराणसी को अपने संसदीय क्षेत्र के रूप में चुना।

वाराणसी संसदीय सीट का समीकरण

वाराणसी लोकसभा क्षेत्र के तहत 5 विधानसभा क्षेत्र आते हैं – रोहणिया, वाराणसी उत्तरी, वाराणसी दक्षिण, वाराणसी छावनी और सेवापुरी। 2017 के विधानसभा चुनाव में चार सीटों पर बीजेपी और एक पर उसकी सहयोगी पार्टी अपना दल ने जीत दर्ज की।

2014 के लोकसभा चुनाव में वाराणसी संसदीय क्षेत्र में 17,67,486 मतदाता शामिल थे, जिसमें पुरुष मतदाताओं की संख्या 9,86,224 और महिला मतदाताओं की संख्या 7,81,262 थी। बनारस के जातीय समीकरणों की बात करें तो यहां कुर्मी समाज के मतदाताओं की संख्या सबसे ज्यादा है। रोहनिया और सेवापुरी में कुर्मी मतदाता काफी संख्या में हैं। इसके अलावा ब्राह्मण और भूमिहार वोटर्स की भी अच्छी खासी तादाद है। वाराणसी के लिए वैश्य, यादव और मुस्लिम मतदाताओं की संख्या भी जीत के लिए निर्णायक साबित होती है। धर्म के आधार पर वाराणसी में 85 फीसदी आबादी हिंदुओं की है जबकि 15 फीसदी मुस्लिम समाज के लोग रहते हैं।

निवर्तमान सांसद: नरेंद्र मोदी

लोकसभा चुनाव 2014 के नतीजे

नरेंद्र मोदी, बीजेपी – 5,81,022
अरविंद केजरीवाल, आम आदमी पार्टी – 2,09,238
अजय राय, कांग्रेस – 75,614

2019 लोकसभा चुनाव के लिए प्रमुख उम्मीदवार

  • नरेंद्र मोदी, बीजेपी/ NDA
  • शाल‍िनी यादव, समाजवादी पार्टी/ महागठबंधन
  • अजय राय, कांग्रेस

सातवें चरण के चुनाव लिए महत्वपूर्ण तिथियां

अधिसूचना  जारी 22 अप्रैल
नामांकन दाखिल करने की अंतिम तिथि 29 अप्रैल
नामांकन पत्र की जांच 30 अप्रैल
नामांकन वापसी की अंतिम तिथि 2 मई
मतदान की तारीख 19 मई
मतगणना की तारीख 23 मई

लोकसभा चुनाव 2019: सातवें चरण में 19 मई को इन सीटों पर होगी वोटिंग, देखें राज्यवार सूची

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)