Connect with us

हेल्थ

साल के अंतिम दिनों में खाएं ऐसी दावत, जो दिल के लिए हो सेहतमंद!

Published

on

साल के अंतिम दिनों में खाएं ऐसी दावत, जो दिल के लिए हो सेहतमंद!

नई दिल्ली,  साल के आखिरी दिनों के साथ-साथ परिवार और दोस्तों के साथ त्योहारों का जश्न व पार्टियां का वक्त भी नजदीक आ रहा है, लेकिन इस दौरान स्वादिष्ट भोजन का बुरा असर आपकी सेहत पर भी पड़ सकता है क्योंकि इन व्यंजनों में फैट, चीनी और काबोर्हाइड्रेट भरपूर मात्रा में होते हैं। ऐसे में खुद को सुरक्षित रखने के लिए चिकित्सक ने कुछ सुझाव दिए हैं। अपोलो हॉस्पिटल्स की चीफ क्लिनिकल न्यूट्रिशनिस्ट डॉ. प्रियंका रोहतगी का कहना है कि पार्टियों में ज्यादा ग्लासेमिक इन्डैक्स से युक्त इस तरह के आहार का सेवन करने से ब्लड शुगर अचानक बढ़ती है, जिससे शरीर में इंसुलिन का स्तर बढ़ता है और आपको नींद आने लगती है। डायबिटीज से पीड़ित मरीजों के लिए यह स्थिति बेहद गंभीर हो सकती है।

उन्होंने कहा कि क्रिसमस के दौरान खाऐ जाने वाले व्यंजन न केवल वजन बढ़ाते हैं बल्कि जीवन शैली से जुड़ी बीमारियों जैसे डायबिटीज और उच्च रक्तचापतक का कारण बन सकते हैं।

क्रिसमस की पार्टी के लिए व्यंजन बनाते समय इन चीजों का ध्यान रखने से आप किसी तरह का समझौता किए बिना अपने दिल को स्वस्थ बनाए रख सकते हैं।

* मूफा से युक्त तेल इस्तेमाल करें : जहां तक हो सके तले हुए खाद्य पदार्थों का सेवन न करें, अगर आप तले हुए व्यंजन खाना ही चाहते हैं तो मूफा से युक्त तेल में पकाएं। मूफा यानि मोनो सैचुरेटेड फैटी एसिड, ये दिल के लिए फायदेमंद हैं। मूंगफली का तेल, सरसों का तेल, कनोला का तेल इसके अच्छे उदाहरण हैं जो उच्च रक्त चाप को कम करने में मदद करते हैं और आपको दिल की बीमारियों से बचाते हैं। ये बुरे कॉलेस्ट्रॉल यानि एलटीएल को कम कर आर्टरीज में होने वाले ब्लॉक की संभावना को भी कम करते हैं।

* हरी सब्जियों का सेवन भरपूर मात्रा में करें : इस दौरान आप वसा से युक्त व्यंजनों के साथ हरी सब्जियों का भरपूर सेवन कर अपना संतुलन बनाए रखते हैं। सब्जियों के साथ सलाद भी खाएं। सब्जियों में फाइबर ज्यादा मात्रा में होता है इसलिए आप अपना पेट भरा हुआ महसूस करते हैं और ओवरइंटिंग नहीं करते। इसी तरह अगर आप रोजाना काजू, बादाम और अखरोट आदि खाएं तो आपको सेहतमंद फैट्स और अच्छा पोषण मिलेगा।

* कम मात्रा में खाएं : इन दिनों डाइनिंग टेबल स्वादिष्ट व्यंजनों से भरा रहता है, लेकिन ओवर-इंटिंग करने के बजाए सभी चीजें थोड़ी-थोड़ी मात्रा में खाएं।

* चीनी और नमक का सेवन कम करें : त्योहारों के दौरान चीनी और नमक का सेवन कम कर दें। आहार में नमक का सेवन कम करने से हाई ब्लड प्रेशर और दिल की बीमारियों की संभावना कम होती है। इसी तरह चीनी का सेवन सीमित मात्रा में करने सेभी आप अपने आप को दिल की बीमारियों से बचा सकते हैं। चीनी के बजाए गुड़ या मोलेसेज का इस्तेमाल करें।

* अच्छा मीट खाएं : मीट में प्रोटीन भरपूर मात्रा में होता है। लेकिन चिकन और फिश की तुलना में रैड मीट जैसे बीफ, पोर्क और लैम्ब में सैचुरेटेड फैट्स अधिक मात्रा में होते हैं। जिससे दिल की बीमारियों की संभावना बढ़ती है। वहीं दूसरी ओर ओमेगा 3-फैटी एसिड से युक्त खाद्य पदार्थ हार्ट फेलियर की संभावना को कम करते हैं।

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हेल्थ

वैज्ञानिकों ने तैयार की इकोफ्रैंडली डायट

Published

on

Scientists prepared echofrenally diet

इंसान को स्वस्थ रहने के लिए सही डाइट फॉलो करना बेहद जरूरी होता है पर साथ ही हमारी धरती को भी क्लाइमेट चेंज जैसी समस्याओं से बचाना जरूरी है। इसी को मध्येनजर रखते हुए वैज्ञानिकों ने एक खास तरह का डायट प्लान तैयार किया है, जिसमें आपको हर दिन क्या और कितना खाना है इसकी पूरी जानकारी दी गई है। डाइट में सबसे अहम बात यह है कि अगर धरती पर मौजूद सभी लोग अपनी डायट में रेड मीट और शुगर में 50 प्रतिशत की कमी कर दें और उसकी जगह फल और सब्जियां ज्यादा खाना शुरू कर दें तो हर साल समय से पहले मरने वालों की संख्या में कमी लायी जा सकेगी साथ ही इस तरह के डायट प्लान से क्लाइमेट चेंज की सबसे बड़ी ग्रीन हाउस गैस एमिशन में कमी आएगी, धरती पर इस वक्त मौजूद नस्लों और प्रजातियों को विलुप्त होने से बचाया जा सकेगा, पानी की बर्बादी रोकने में मदद मिलेगी और पानी बचेगा और खेती योग्य भूमि को बढ़ाने की भी जरूरत नहीं पड़ेगी।

वैज्ञानिकों का कहना है कि यूरोप और नॉर्थ अमेरिका के लोग रेड मीट का सेवन बहुत ज्यादा करते हैं लिहाजा उन्हें उसमें कमी करने की जरूरत है जबकि ईस्ट एशिया के लोगों को मछली के सेवन में कमी करने की और अफ्रीका के लोगों को स्टार्च वाली सब्जियों के सेवन में कमी करने की जरूरत है। ऐसे में अगर दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में मौजूद लोग अपनी डायट में अलग-अलग तरह का बदलाव करें तो एक परफेक्ट और हेल्दी डायट तैयार हो जाएगी। इससे न सिर्फ आप हार्ट अटैक, स्ट्रोक और कैंसर जैसी कई बीमारियों से बचे रहेंगे बल्कि हर साल करीब 1 करोड़ लोगों की जो समय से पहले मौत हो जाती है उसे भी रोका जा सकेगा।
EAT-Lancet कमिशन के तहत दुनियाभर के 37 वैज्ञानिकों ने एक साथ मिलकर यह डायट तैयार किया है जिसे द प्लैनेट्री हेल्थ डायट नाम दिया गया है,उन्होंने इसमें क्लाइमेट चेंज से लेकर न्यूट्रिशन तक को शामिल किया है और इसे तैयार करने में पूरे दो साल का वक़्त लगा है।
आंकड़ों के अनुसार दुनिया की आबादी 7.7 बिलियन है जो 2050 तक बढ़कर 10 बिलियन यानी 1 हजार करोड़ हो जाएगी और इतनी बड़ी आबादी का पेट भरने के लिए सभी को अपने खान-पान में बदलाव करने की जरूरत है।

पेश है डायट का एक स्वरूप –
नट्स- 50 ग्राम प्रति दिन
बीन्स, दाल, फलियां, छोला-राजमा आदि- 75 ग्राम प्रति दिन
फिश- 28 ग्राम प्रति दिन
अंडे- 13 ग्राम प्रति दिन
रेड मीट- 14 ग्राम प्रति दिन
चिकन- 29 ग्राम प्रति दिन
होल ग्रेन (ब्रेड और राइस)- 232 ग्राम प्रति दिन
स्टार्च वाली सब्जियां- 50 ग्राम प्रति दिन
डेयरी- 250 ग्राम प्रति दिन
सब्जियां- 300 ग्राम प्रति दिन
फल- 200 ग्राम प्रति दिन
शुगर- 31 ग्राम प्रति दिन
ऑइल- 50 ग्राम प्रति दिन

वैज्ञानिकों द्वारा तैयार की गयी इस स्पेशल डाइट को अगर सभी लोग फॉलो करना शुरू कर दें तो इससे न सिर्फ आपकी और हमारी सेहत को किसी तरह का नुकसान नहीं होगा, बल्कि इससे हमारी धरती भी सुरक्षित रहेगी और साल 2050 तक 1 हजार करोड़ों लोगों का पेट भी भरा जा सकेगा।
हालांकि यह बात भी है कि सिर्फ डायट बदलने से बहुत ज्यादा फायदा तब तक नहीं होगा जब तक खाने की बर्बादी को न रोक दें।
EAT-Lancet कमिशन अपनी इस रिपोर्ट और इसके नतीजों को WHO के साथ-साथ दुनियाभर के देशों की सरकार के पास भी लेकर जाएगा ताकि लोगों के खानपान के तरीकों में बदलाव किया जा सके।

Continue Reading
Advertisement

Trending

© 2018 Newsd Media Private Limited. All rights reserved.