आदिवासी बच्चों की मदद के लिए आगे आए राहुल गांधी, वायनाड क्लेक्टर को पत्र लिख मांगी जानकारी

rahul gandhi

नई दिल्ली। वायनाड से सांसद राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने जिले के क्लेकटर अदीला अब्दुल्ला को एक पत्र लिखकर आदिवासी बच्चों की मदद की इच्छा जताई। राहुल ने अपने पत्र में लिखा कि मुझे आशा है कि आप मेरा यह संदेश मिलने तक सकुशल होंगे।

राहुल ने पत्र में कहा कि कोरोना संकट के बाद स्कूल में क्लास का सामान्य रूप से बहाल होना चुनौतीपूर्ण है। ऐसे में डिजिटल क्लासरूम की ओर कदम बढ़ाना आवश्यक हो जाता है। उन्होंने लिखा कि मैंने कुछ ऐसी रिपोर्ट पढ़ी जिसमें मालूम पड़ता है कि आदिवासी छात्र अभी भी डिजिटल क्लास रूम की पहूंच से दूर हैं।


वायनाड के आदिवासी छात्र, विशेष रूप से दूरदराज के रहने वाले हैं। जिनकी पहुंच स्मार्टफोन, कंप्यूटर और इंटरनेट तक नहीं है। ऐसे में ये सभी छात्रों इसमें पीछे रह जाएंगे। वैसे भी आदिवासी बच्चों की स्कूल छोड़ने की तादाद ज्यादा है और इस स्थिति में बच्चों के स्कूल छोड़ने की संभावना और बढ़ जाएगी।

मुझे ऐसे बच्चों सहायता करने में खुशी मिलेगी। मैं इन वंचित समुदाय के बच्चों के लिए जरूरी उपकरण मुहैया कराना चाहता हूं। मेरा आपसे आग्रह है कि आप आदिवासी समुदाय के बच्चों की जानकारी मुझसे साझा करें।


आपको बता दें कि केरल में स्कूलों का नया सत्र शुरू हो गया है। मुख्यमंत्री पिनराई विजयन के अनुसार, राज्य में शैक्षणिक वर्ष की शुरुआत एक जून से हो गई है। सरकार ने इस नए शैक्षणिक सत्र को फर्स्ट बेलनाम दिया है।

राज्य में छात्रों की पढ़ाई जारी रखने के लिए बड़े प्रोजेक्टर्स की मदद ली जा रही है। इसके अलावा मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने कहा कि छात्र नए शैक्षणिक वर्ष में प्रवेश कर रहे हैं। महामारी के कारण बच्चे अभी स्कूलों में नहीं पहुंच सकते हैं। इसलिए वे अपने घर से ही पढ़ाई जारी रख सकते हैं।

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)