ट्रंप नहीं करेंगे कश्मीर मामले में मध्यस्थता : अमेरिका में भारतीय राजदूत

ट्रंप नहीं करेंगे कश्मीर मामले में मध्यस्थता : अमेरिका में भारतीय राजदूत

वाशिंगटन | अमेरिका में भारत के दूत हर्ष वर्धन श्रृंगला ने कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप की मध्यस्थता को लेकर की गई बात ‘अब मेज पर नहीं है’ और ‘इसके कभी होने की संभावना भी नहीं है’। एक मीडिया की रिपोर्ट में यह बात कही गई। फॉक्स न्यूज के एक साक्षात्कार में सोमवार रात इस संभावना के बारे में पूछे जाने पर, श्रृंगला ने कहा, “राष्ट्रपति ट्रंप ने यह स्पष्ट कर दिया है कि यह मुद्दा अब मेज पर नहीं है।”

श्रृंगला ने कहा, “इस मुद्दे पर यह अमेरिका की यही पुरानी नीति रही है। संयुक्त राष्ट्र महासचिव भी इस बात को बहुत स्पष्ट तरीके से कह चुके हैं। महासचिव ने कहा हैं कि इस मुद्दे को भारत और पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय रूप से हल किया जाएगा।”


ट्रंप ने 22 जुलाई को एक बयान देकर उस वक्त राजनीतिक तूफान खड़ा कर दिया था, जब उन्होंने कश्मीर मुद्दे पर मध्यस्थता की बात की थी।

व्हाइट हाउस में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ एक संवाददाता सम्मेलन में ट्रंप ने पत्रकारों से कहा था कि भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनसे कहा है कि वह कश्मीर मुद्दे पर मध्यस्थता करें। इसके साथ ही ट्रंप ने कहा था कि उन्हें ऐसा करने में बेहद खुशी महसूस होगी।

इसके जवाब में भारत ने ट्रंप के दावों को खारिज किया था।


अमेरिकी प्रशासन ने ट्रंप के दावे के कारण हुई राजनयिक शर्मिदगी का सामना करने के लिए तेजी से कदम उठाए और स्वीकार किया कि कश्मीर भारत व पाकिस्तान के बीच एक द्विपक्षीय मुद्दा है।

लेकिन ट्रंप ने इस महीने की शुरुआत में एक ऑफ-हैंड तरीके से मध्यस्थता के अपने प्रस्ताव को फिर से नवीनीकृत किया, लेकिन भारत ने इसे ²ढ़ता से यह कहते हुए खारिज कर दिया कि कश्मीर मुद्दे पर अगर कोई बातचीत होगी तो वह सिर्फ पाकिस्तान के साथ होगी और यह द्विपक्षीय होगी।


जम्मू-कश्मीर में रातों-रात हालात सामान्य नहीं हो सकते : सुप्रीम कोर्ट

(इस खबर को न्यूज्ड टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)