#NoidaFilmCityExcavation : क्या नोएडा फिल्म सिटी के नीचे दबा है हनुमान जी के गदे का मनका, ट्विटर पर लोग कर रहे खुदाई की मांग

क्या नोएडा फिल्म सिटी के नीचे दबा है हनुमान जी के गदे का मनका, ट्विटर पर लोग कर रहे खुदाई की मांग

क्या दिल्ली से सटे नोएडा में स्थित फिल्म सिटी के 3000 मीटर नीचे हनुमान जी का भव्‍य मंदिर है? क्या इस मंदिर में रखा है हनुमान जी के गदे से टूटकर गिरा मनका? ट्विटर पर इसको लेकर दावे किये जा रहे हैं। इतना ही नहीं कई यूजर्स #NoidaFilmCityExcavation ट्रेंड के साथ ट्वीट कर के फिल्म सिटी को खोदकर हनुमान जी का मनका ढूंढ़ने की बात कह रहे हैं। आइये जानते हैं क्‍या है मामला

रॉफल गांधी (@RoflGandhi_) नामक एक ट्विटर यूजर ने दावा किया है कि रोहतक यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर और हिंदू अध्यात्म के रिसर्चर बलवान दहिया ने हनुमानजी पर गहरा अध्ययन किया है। उनकी रिसर्च में सामने आया कि जब हनुमानजी संजीवनी लेकर लौट रहे थे तो उनकी गदा पर लगा एक मनका नीचे गिर गया था। हजारों साल के बाद नौवीं सदी में वो मनका कृपाराम नामक एक गरीब को मिला। इसके बाद उसकी किस्मत बदल गयी और वो लखपति हो गया। तब उस रहस्यमयी मनके की महिमा समझ आयी और अपनी पत्नी भामादेवी की सलाह पर कृपाराम ने हनुमान जी का भव्य मंदिर बनवाकर उस मनके को स्थापित कर दिया।



रॉफल गांधी ने आगे लिखा है कि इस मंदिर के आस-पास एक समृद्ध और खुशहाल शहर बस गया। जिसका नाम था नवोदय। फिर 11वीं शताब्दी में नवोदय नगरी के राजा अजेयनाथ और एक मुस्लिम शासक टीपू खान के बीच भयंकर जंग हुई। इससे पहले कि टीपू नवोदय नगर को लूट पाता, इस नवोदय नगर की कुलदेवी महामाया ने पूरे शहर को पाताल में छुपा दिया। प्रोफेसर दहिया की रिसर्च और मशहूर पुरातत्व विशेषज्ञ कगिशो आर्चर की रिपोर्ट कहती है कि जहाँ सोने की नवोदय नगरी थी, वहाँ आज नोएडा शहर आबाद है। मनका जड़ित भव्य मंदिर की लोकेशन नोएडा फ़िल्म सिटी में भूतल से लगभग 3000 मीटर नीचे बतायी गयी है।

Anonymity has given me an identity: Rofl Gandhi

@RoflGandhi_ के इस दावे के बाद कई ट्विटर यूजर्स नोएडा फिल्म सिटी की खुदाई कराने की मांग कर रहे हैं। आपको बता दें कि ज्यादातर न्यूज़ चैनलों के ऑफिस नोएडा के फिल्म सिटी इलाके में ही स्थित हैं। देखें क्या कह रहे हैं ट्विटर यूजर्स

सरकार-ए-आज़म नाम के ट्विटर हैंडल से लिखा गया है, “नवोदय नगरी मे लगी सोने की जिन ईंटों का वर्णन प्रोफेसर बलवान ने अपनी रीसर्च मे किया है उन ईंटों को बजरंगी मंदिर से महज़ 350 मीटर दूर एक जादुई ईंट भट्ठे मे बनाया जाता था।”

विशेष नाम के एक यूजर ने यूपी के मुख्यमंत्रियों की नोएडा के प्रति उदासीनता और अंधविश्वास से जोड़ते हुए लिखा है।

अरुण अरोड़ा ने हनुमान के आगे सिर झुकाए पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति ओबामा की तस्वीर डाली है।

कपिल ने नासा के सेटेलाइट इमेज को शेयर कर दावे की पुष्टि की है।

वहीं, पका पपीता नाम के एक यूजर ने हनुमान के गदे से टूटे मनके के एक पोटली में रखे होने की बात कही है।

रौशन राय लिखते हैं, “स्टूडियो आएंगे , जाएंगे , मंदिर रहना चाहिए।”

राकेश शर्मा ने नोएडा से सटे दिल्ली के पटपड़गंज और मयूर विहार की कहानी भी बताई है।

पॉलिटिकल पुंगी नामक यूजर ने मुद्दे को एक टीवी डेबिट के रूप में पेश किया है।

क्या है असलियत?

ज्ञात हो कि @RoflGandhi_ की इस कहानी में किसी तरह की सच्चाई नहीं है। ये कहानी टीवी न्यूज़ चैनलों का मज़ाक उड़ाने के उद्देश्य से बनाई गई है। दरअसल, अयोध्या में रामजन्मभूमि और बाबरी मस्जिद को लेकर सुप्रीम कोर्ट में पिछले कुछ दिनों से रोजाना सुनवाई चल रही थी। बुधवार को इस सुनवाई का अंतिम दिन था। टीआरपी की गलाकाट रेस में शामिल टीवी न्यूज़ चैनलों ने मौके को भुनाते हुए इस मुद्दे पर मिर्च-मसाला लगाकर शो बनाए और प्रसारित किये। इसी बीच न्यूज़ चैनल ‘आज तक’ ने एक विवादित ट्वीट कर दिया, जिसके चलते चैनल को ट्विटर पर जबरदस्त आलोचना झेलनी पड़ रही है। आजतक के इस ट्वीट में पोस्ट किए गए ग्राफिक्स में लिखा था – “जन्मभूमि हमारी, राम हमारे, मस्जिद वाले कहाँ से पधारे?”

इसके बाद से सोशल मीडिया यूजर्स का गुस्सा आज तक समेत तमाम न्यूज़ चैनेलों पर फूटा और लोग लगातार इनकी आलोचना कर रहे हैं। टीवी न्यूज़ चैनलों के कंटेंट के गिरते स्तर के चलते ट्विटर यूजर्स ने इनका मज़ाक उड़ाना शुरू कर दिया है और हनुमान जी के मंदिर की कहानी बनाकर इनके ऑफिस गिराने की बात कर रहे हैं।


नोएडा: एमिटी यूनिवर्सिटी में पार्किंग विवाद पर लड़कियों ने बाहर से बुलाये लड़के, 2 छात्रों को बेरहमी से पीटा

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)