कोवैक्सीन के पशु पर परीक्षण को पुख्ता प्रतिरक्षा प्रतिक्रियाएं मिलीं : भारत बायोटेक

  • Follow Newsd Hindi On  
Johnson & Johnson pauses corona vaccine trial over unexplained illness

भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड ने घोषणा की है कि उसकी कोविड-19 वैक्सीन ‘कोवैक्सीन’ ने जानवरों पर किए गए अध्ययन में सकारात्मक प्रभाव दिखाया है और पुख्ता प्रतिरक्षाएं प्रतिक्रिया उत्पन्न की है।

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) और भारत बायोटेक द्वारा विकसित ‘कोवैक्सीन’ का परीक्षण पूरे भारत में 12 संस्थानों में किया जा रहा है। यह स्वदेशी वैक्सीन देश में कोरोनावायरस वैक्सीन की दौड़ में सबसे आगे चलने वालों में से एक है।


हैदराबाद स्थित फर्म ने कहा, “भारत बायोटेक गर्व से ‘कोवैक्सीन’ के पशु अध्ययन परिणामों की घोषणा करता है। यह परिणाम एक लाइव वायरल चैलेंज मॉडल में सुरक्षात्मक प्रभावकारिता प्रदर्शित करते हैं।”

दवा बनाने वाली कंपनी ने कहा, “वैक्सीन उम्मीदवार (ऐसे कैंडिडेट जिन पर परीक्षण किया गया) को मजबूत प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया उत्पन्न करने के तौर पर पाया गया है।”

भारत बायोटेक ने कहा, “परिणामों ने सुरक्षात्मक प्रभाव दिखाया है। इसने सार्स-कोव-2 विशिष्ट आईजीजी को बढ़ाने और एंटीबॉडी को निष्क्रिय करने, नाक गुहा, गले और बंदरों के फेफड़ों के ऊतकों में वायरस के प्रतिरूप को कम किया है।”


इससे पहले कोरोनावायरस से निजात पाने के लिए ‘भारत बायोटेक’ द्वारा विकसित की जा रही स्वदेशी ‘कोवैक्सीन’ को ड्रग रेगुलेटरी की ओर से ट्रायल के दूसरे चरण की मंजूरी दी गई थी।

भारत बायोटेक वर्तमान में देशभर के कई अस्पतालों में कोरोना के मरीजों पर ‘कोवैक्सीन’ के दूरसे चरण के नैदानिक परीक्षण का आयोजन कर रहा है। इसमें अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) दिल्ली और पटना, विशाखापत्तनम में किंग जॉर्ज अस्पताल, हैदराबाद में निजाम का आयुर्विज्ञान संस्थान शामिल है। इसके साथ ही हरियाणा के रोहतक स्थित पीजीआई में भी इसका परीक्षण चल रहा है।

–आईएएनएस

(इस खबर को न्यूज्ड टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)