इस बैक्टीरिया को खाने से डायबीटीज और दिल की बीमारी का खतरा होगा कम

अक्सर हमारे दिमाग में ये धारणा होती है कि बैक्टीरिया और वायरस ही बीमारियों की जड़ होते हैं लेकिन अब एक नई रिसर्च में यह बात सामने आयी है, जिसे सुनकर आप हैरान हो सकते हैं। दरअसल रिसर्च में ये बात सामने आई है कि एक खास तरह के बैक्टीरिया के सेवन से हार्ट को हेल्दी रखा जा सकता है और दिल से जुड़ी बीमारियों का खतरा कम होता है। शोधकर्ताओं ने पता लगाया है कि अक्करमेंसिया म्यूसिनीफिला जो मानव आंत्र में उपस्थित जीवाणु की एक प्रजाति है, पास्चुरीकरण के रूप में इसका उपयोग करने से यह विभिन्न हृदय रोग जोखिम कारकों से अधिक सुरक्षा प्रदान करती है। पत्रिका ‘नेचर मेडिसिन’ में प्रकाशित इस निष्कर्ष के मुताबिक, लौवेन यूनिवर्सिटी की रिसर्च टीम ने मानव शरीर में प्रभावी बैक्टीरिया पर अध्ययन किया।

आपको बता दें कि इस रिसर्च के लिए 42 प्रतिभागियों को नामांकित किया गया और 32 ने इस परीक्षण को पूरा किया। शोधकर्ताओं ने मोटे प्रतिभागियों को अक्करमेंसिया दिया, इन सभी में डायबिटीज टाइप 2 और मेटाबोलिक सिंड्रोम देखे गए। यानी इनमें दिल की बीमारियों से संबंधित जोखिम कारक थे।


ये भी पढ़ें: देश में हर साल 2 लाख लोगों को होती है किडनी बीमारी : विशेषज्ञ

गौरतलब है कि प्रतिभागियों को तीन समूहों में बांट दिया गया- एक जिन्होंने जीवित बैक्टीरिया लिया और दो जिन्होंने पास्चुरीकृत बैक्टीरिया लिया- इन दोनों समूहों के सदस्यों में अपने खान-पान और शारीरिक गतिविधियों में परिवर्तन करने के लिए कहा गया। इन्हें अक्करमेंसिया न्यूट्रीशनल सप्लीमेंट के तौर पर दिया गया। अक्करमेंसिया का सेवन इन प्रतिभागियों को तीन महीने तक लगातार करना था।

डायबीटीज, हार्ट डिजीज का खतरा काफी हद तक हुआ कम


शोधकर्ताओं ने पाया कि इस सप्लिमेंट को खाना आसान रहा और जीवित और पास्चुरीकृत बैक्टीरिया लेने वाले समूहों में कोई साइड इफेक्ट नहीं देखा गया। पास्चुरीकृत बैक्टीरिया ने प्रतिभागियों में डायबीटीज टाइप 2 और दिल की बीमारियों के खतरे को काफी हद तक कम कर दिया। इससे लिवर के स्वास्थ्य में भी सुधार देखा गया। प्रतिभागियों के शारीरिक वजन में भी गिरावट (सामान्य तौर पर 2.3 किलो) देखी गई और इनके साथ ही साथ कलेस्ट्रोल के स्तर में भी कमी आई।

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)