मध्य प्रदेश : ग्वालियर में गोडसे जयंती मनाई गई, कमल नाथ ने कार्रवाई की मांग की

ग्वालियर/भोपाल । मध्य प्रदेश के ग्वालियर में महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे की जयंती पर हिंदू महासभा के कार्यालय में दीप जलाए गए। पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने इस कृत्य की निंदा करते हुए कड़ी कार्रवाई की मांग की है और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से स्पष्ट करने को कहा है कि वह बापू की सोच के साथ हैं या गोडसे की सोच के साथ।

ग्वालियर के दौलतगंज स्थित हिंदू महासभा के कार्यालय में गोडसे की मंगलवार को जयंती मनाई गई। कार्यालय में दीपक जलाए गए। महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जयवीर भारद्वाज ने कहा है कि “आज नाथूराम गोडसे की 142वीं जयंती मनाई है। हिंदू महासभा के कार्यकर्ताओं ने तीन हजार लोगों को गोडसे का चित्र वितरित किया। सभी ने इस मौके पर अपने घरों में दीपक जलाए।”


उन्होंने आगे कहा कि देश के विभाजन के लिए कांग्रेस जिम्मेदार है, ऐसा हिंदू महासभा मानती है।

पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने गोडसे की जयंती मनाए जाने पर सख्त ऐतराज जताया है। उन्होंने कहा, “शिवराज सरकार में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे की प्रदेश के ग्वालियर में जयंती मनाना, आयोजन करना, उसकी तस्वीर पर दीये जलाना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण घटना है।”

उन्होंने कहा, “हम मांग करते हैं कि इसके दोषियों पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई हो। लॉकडाउन में इस तरह का आयोजन कैसे हुआ, इसकी भी जांच हो। कांग्रेस इस तरह के कृत्यों पर चुप नहीं बैठेगी और इसका हर मंच पर पुरजोर विरोध करेगी।”

उन्होंने आगे कहा, “हमारी सरकार में हमने ऐसा करने वालों पर कड़ी कार्यवाई की थी और ऐसा करने वालों को चेताया था। प्रदेश में बापू के हत्यारे का महिमामंडन कतई बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है। शिवराज सरकार स्पष्ट करे कि वह बापू की सोच के साथ है या गोडसे की विचारधारा के साथ?”

–आईएएनएस

(इस खबर को न्यूज्ड टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)