झारखंड : स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी ने की पुलिस शिकायत, पैसा लेते हुए वीडियो हुआ था वायरल

सोशल मीडिया में शुक्रवार को एक वीडियो तेजी से वायरल हुआ, जिसमें झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी को गढ़वा के आदर पंचायत में चबूतरा निर्माण के एवज में कथित रूप से रिश्वत लेने की बात कही गई। खबरों के अनुसार वीडियो में मंत्री हाथ में पैसा लेकर कुछ पैसा ग्रामीणों को देते हुए और कुछ पैसा अपनी जेब में रखते हुए दिख रहे हैं।

वीडियो के वायरल होने के बाद विरोधियों ने सोशल मीडिया में मंत्री के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। आपको बता दें कि अब इस मामले में नया मोड़ आया है। इस मामले में मंत्री की शिकायत पर पुलिस ने एक व्यक्ति को हिरासत में ले लिया है। उससे पूछताछ जारी है।


क्या है पूरा मामला?

दरअसल शुक्रवार को सोशल मीडिया में एक वीडियो तेजी से वायरल हुआ। इस वीडियो में मंत्री जी को पैसा लेते हुए दिखाया जा रहा है, इसमें स्वास्थ्य मंत्री पहले एक व्यक्ति को पैसा गिनते हुए देख रहे हैं, फिर कुछ ही पलों में उससे पैसा अपने हाथों में लेते हैं और एक व्यक्ति को देते हैं। शेष पैसा वह अपने पास रख लेते हैं। चूंकि बात मंत्री से जुड़ा है सो वीडियो तेजी से वाट्सएप और फेसबुक पर वायरल होता चला गया।

झारखंड में नक्सलियों ने वाहनों को जलाया

बता दें कि सोशल मीडिया में वायरल हुए वीडियो की जानकारी मिलने के बाद मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी ने पत्रकार वार्ता बुलाकर कहा कि ऐसा जिसके द्वारा भी किया गया है वह कहीं से भी सही नहीं है। यह सब हमारी छवि खराब करने के लिए विरोधियों की चाल है। मंत्री चंद्रवंशी ने कहा कि 11 जुलाई को विभिन्न विकास योजनाओं का शिलान्यास करने आदर गांव गया था। शिलान्यास के बाद ग्रामीणों ने चबूतरा निर्माण करवाने की मांग की। ग्रामीणों की मांग को देखते हुए मैंने ग्रामीण सीताराम रजवार को चबूतरा निर्माण के लिए 15 हजार रुपये नगद दिए तथा चंदा से चबूतरा निर्माण करवाने का आश्वासन दिया।


झारखंड में दो बच्चों का सिर कटा शव मिला, बलि की आशंका

उन्होंने आगे कहा कि, ग्रामीणों ने बताया था कि चबूतरा निर्माण में 50 हजार रुपये खर्च होगा। इसलिए शेष 35 हजार रुपये चंदा के माध्यम से दिलाने की बात कही थी। मगर कुछ लोगों द्वारा साजिश के तहत इसका वीडियो बना लिया गया तथा पैसा देने की बजाय रिश्वत लेने की बात को सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। आदर गांव के राहुल ठाकुर एवं खरडीहा के सतीश यादव ने मुझे बदनाम करने की नीयत से यह काम किया है। सतीश यादव भाजपा से निष्कासित है इसलिए वह हमारी छवि को धूमिल करना चाहता है।

झारखंड में सरकार किसानों को स्मार्ट फोन खरीदने के लिए देगी धन

मंत्री के अनुसार जिस समय की यह घटना बताई जा रही है उस समय प्रशासनिक पदाधिकारियों के अलावा 2 हजार लोग मौजूद थे। ऐसे में क्या कोई रिश्वत ले सकता है। इस संबंध में मेरे जिला प्रतिनिधि दिवाकर दुबे ने एसपी शिवानी तिवारी को आवेदन देकर कार्रवाई की मांग की है। पुलिस ने एक व्यक्ति को हिरासत में लिया है। पत्रकार वार्ता में आदर पंचायत के मुखिया प्रतिनिधि सुदामा चौधरी भी मौजूद थे। उन्होंने कहा कि यह पूरी घटना साजिश है।

गौरतलब है कि पुलिस इस मामले की जांच में जुट गई है। एक व्यक्ति को हिरासत में लेकर उससे गहनता से पूछताछ की जा रही है। जल्द ही इस मामले का खुलासा हो सकता है।

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)