Shab-E-Barat 2020: ‘शब-ए-बरात’ पर Facebook और WhatsApp से दें दोस्तों, परिवार को ये खास मुबारकबाद

Shab-E-Barat 2020: 'शब-ए-बरात' पर Facebook और WhatsApp से दें दोस्तों, परिवार को ये खास मुबारकबाद

शब-ए-बरात (Shab-E-Barat) मुस्लिम धर्म में एक अहम रात माना जाती है। मुख्यता इस रात सभी मुसलमान ज्यादा से ज्यादा दान और अल्लाह की इबादत करते हैं। साथ ही अपने गुनाहों और गलती के लिए भी अल्लाह से माफी मांगते हैं। दरअसल शब-ए-बरात (Shab-E-Barat) का मतलब ही गुनाहों से माफी मांगने वाली रात से है।

शब- मतलब रात और बरात का मतलब बरी या आजाद। इस्लामिक कैलेण्डर के 8वें महीने शाबान में शब-ए-बरात आती है। हालांकि इस रात को किसी अन्य त्यौहारों की तरह नहीं मनाया जाता है। इस रात मुस्लिम लोग सिर्फ नमाज, कुरान शरीफ, दान-पुण्य और अल्लाह की इबादत करते हैं। इस बार शब-ए-बरात (Shab-E-Barat) जुमेरात (गुरुवार) 9 अप्रैल की है।


अगर आप भी शब-ए-बरात के इस खास मौके पर मुबारकबाद देना चाहते हैं तो आप नीचे दी गई खास मुबारकबाद को अपने फेसबुक (Facebook), व्हाट्सऐप ( WhatsApp),मैसेज के जरिए अपने दोस्त,परिवार और करीबियों को शेयर सकते हैं।

1. रहमतों की आई है रात
दुआ है आप सदा रहें आबाद
दुआ में रखना हमें भी याद
मुबारक हो आपको ‘शब-ए-बरात’

2.आज की रात ‘शब-ए-बरात’ है
हमारा नामा-ए-अमल तब्‍दील होने वाला है


3.अगर आप खुद को माफ कर सकते हैं
तो आप दूसरों को भी माफ कर सकते हैं
‘शब-ए-बरात’ आपको मुबारक हो

4.अगर मुझसे कोइ गलती हो गई हो तो मुझे माफ कर देना
आज ‘शब-ए-बरात’ है खुदा की इबादत कर लेना

5. ऐ अल्‍लाह मैं तुझसे मांगता हूं ऐसी माफी
जिसके बाद कोई गुनाह न हो
ऐसी सेहत जिसके बाद बीमारी न हो
ऐसी रजा जिसके बाद कोई नाराजगी न हो
‘शब-ए-बरात’ मुबारक हो

Shab e barat English Greeting

1. On this wonderful night, focus on prayers and remember to be thankful to Allah Pak with Nafal Namaz.

2.Tonight it is the night of the highest, remember me in your prayers. Shab e Barat Mubarak!“

3.On this Shab-E-Barat Night, may Allah provide you with comfort, packages of happiness and a heart to help other people.

4.I wish you will remember to pray for your fellow Muslims in this wonderful night. God will shower you with abundant blessings.

5. Today is the night of approval, it is the night when the deeds of the whole human year are presented above and rewarded. Remember to keep us in your prayers this lovely night.


शब-ए-बरात कब है? मुसलमानों में क्या है इस दिन का महत्व और कैसे मनाते हैं?

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)