जानें कौन है खूंखार हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे, जिसे पकड़ने गए 8 पुलिसकर्मी को अपनी जान दांव पर लगानी पड़ी

  • Follow Newsd Hindi On  
Officers engaged in searching missing file of investigation related to gangster Vikas Dubey

उत्तर प्रदेश के कानपुर में बदमाशों ने पुलिस की एक टीम पर अंधाधुंध फायरिंग की। जिसमें डीएसपी देवेंद्र मिश्रा और थाना प्रभारी समेत 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गए। पुलिस की यह टीम हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे (Vikas Dubey) को पकड़ने के लिए गई थी। विकास दुबे के ऊपर लूट, डकैती, फिरौती और हत्या जैसे गंभीर अपराधों के 60 मामले दर्ज हैं।

चौबेपुर थाना क्षेत्र में गुरुवार देर रात हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के घर दबिश देने गई पुलिस की टीम पर हुई ताबड़तोड़ फायरिंग में सीओ समेत आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए। इस घटना के बाद पुलिस ने गांव को चारों तरफ से घेर लिया है। ड्रोन से इलाके की निगरानी की जा रही है। गांव में आरएएफ तैनात कर दी गई है।


अब इस घटना को अंजाम देने के बाद विकास दूबे इलाके के मोस्ट वॉन्टेड अपराधियों में से एक हो गया है। विकास दुबे का नाम 19 साल पहले 2001 में पहली बार तब सुर्खियों में आया था जब उसने थाने में घुसकर दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री एवं बीजेपी नेता संतोष शुक्ला की हत्या कर दी थी।

इसके बाद में उसने कोर्ट में सरेंडर कर दिया था और कुछ ही महीने बाद उसे जमानत पर रिहा कर दिया गया। विकास दुबे ने राजनीति में भी एंट्री लेने की कोशिश की। विकास के बारे में बताया जाता है कि उसके गैंग में कई युवा शामिल हैं जिनके बल पर वह तमाम तरह के अपराधों को अंजाम देता है।

राजनीति में भी पैर जामने की कोशिश में था विकास

विकास दुबे ने पंचायत और निकाय चुनावों में कई नेताओं के लिए काम किया और प्रदेश की सभी प्रमुख पार्टियों के नेताओं से अपने संबंध मधुर बनाए। इसी का नतीजा रहा कि दुबे ने फिर राजनीति में एंट्री की और नगर पंचायत अध्यक्ष का चुनाव भी जीता। हालांकि इसके बाद उसका राजनीतिक करियर ज्यादा आगे नहीं बढ़ पाया।


रिपोर्ट्स के मुताबिक, विकास के खिलाफ यूपी के कई जिलों में 60 से ज्यादा केस दर्ज हैं। विकास की गिरफ्तारी पर 25 हजार रुपये का इनाम भी रखा गया था। बीजेपी नेता संतोष शुक्ला से विकास से दुश्मनी थी। इसी रंजिश के चलते 11 नवंबर 2001 को विकास ने कानपुर के थाना शिवली के अंदर संतोष शुक्ला की गोली मारकर हत्या कर दी थी।

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)