दिल्ली: भाई दूज पर महिलाओं को केजरीवाल सरकार का बड़ा तोहफा, आज से बसों में मुफ्त सफर

दिल्ली: भाई दूज पर महिलाओं को केजरीवाल सरकार का बड़ा तोहफा, आज से बसों में मुफ्त सफर

दिल्ली की महिलाओं को भैया दूज के दिन आज बड़ा तोहफा मिल गया है। आज से दिल्ली में महिलाओं के लिए सरकारी बसों में मुफ्त सफर की शुरूआत हो गई है। अरविंद केजरीवाल सरकार की फ्री राइड योजना के तहत मंगलवार से दिल्ली की डीटीसी और क्लस्टर बसों में महिलाएं मुफ्त यात्रा कर रही हैं। बता दें कि दिल्ली सरकार ने पहले ही भाई दूज से फ्री सफर का ऐलान कर दिया था। यह फ्री सफर डीटीसी (एसी-नॉन एसी) और कलस्टर बसों में होगा।

दिल्ली परिवहन निगम (डीटीसी) और क्लस्टर की बसों में मुफ्त सफर करने के लिए महिलाओं को गुलाबी टोकन (पिंक स्लिप) लेना होगा, लेकिन इसके बदले में कोई किराया नहीं देना पड़ेगा। बस में मुफ्त सफर टिकट लेने पर ही मान्य होगा। आम आदमी पार्टी सरकार ने सोमवार रात को ही नोटिफिकेशन जारी कर दिया था। परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने भाई दूज की सुबह, पिंक टिकट के साथ सफर कर रहीं एक महिला यात्री की तस्वीर ट्विटर पर साझा की।


बस कंडक्टर से मिलेगा गुलाबी रंग का सिंगल जर्नी पास

फ्री सफर के लिए महिलाओं को पिंक रंग का सिंगल जर्नी पास मिल रहा है। जो महिलाएं टिकट लेकर यात्रा करना चाहेंगी तो ऐसा कर सकेंगी। दिए जा रहे पिंक पास पर उस दिन की तारीख लिखी जा रही है, जिसपर वह इशू किया गया है। यह पास कंडक्टर से ही मिलेगा। इसके लिए महिला सवारी को कोई पैसा भुगतान नहीं करना होगा। दिल्ली-एनसीआर में चलने वाली सभी डीटीसी (एसी, नॉन एसी), कलस्टर बस में महिलाएं मुफ्त सफर कर सकती हैं।


दिल्ली: भाई दूज पर महिलाओं को केजरीवाल सरकार का बड़ा तोहफा, आज से बसों में मुफ्त सफर
ऐसा है गुलाबी पास

महिला का दिल्लीवासी होना जरूरी नहीं

यह फ्री सफर दिल्ली-एनसीआर में चलनेवाली सभी डीटीसी और कलस्टर बसों में मिलेगा। इसके लिए महिला का दिल्ली की होना जरूरी भी नहीं है। दिल्ली-एनसीआर एरिया में सभी महिलाओं के लिए यह सफर फ्री ही है। यह स्कीम फिलहाल मार्च 2020 तक लागू रहेगी। हर पिंक टिकट के लिए दिल्ली सरकार डीटीसी को 10 रुपये देगी, ताकि इससे डीटीसी का घाटा न हो।

करीब 14 लाख महिलाओं को मिलेगा फायदा

बता दें, दिल्ली में लगभग 3500 डीटीसी और 1500 क्लस्टर बसें हैं। डीटीसी बसों में रोजाना 31 लाख और क्लस्टर बसों में 12 लाख यात्री सफर करते हैं। इन 43 लाख कुल यात्रियों में से औसतन 33 प्रतिशत को महिला यात्री माना जाता है। यानी सीधे-सीधे 14 लाख महिलाओं को इसका लाभ मिलेगा।

सुरक्षा के लिए 13 हजार मार्शल होंगे तैनात

दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल ने सोमवार को कहा कि उनकी सरकार राष्ट्रीय राजधानी में महिलाओं की सुरक्षा बढ़ाने के प्रति वचनबद्ध है। इसके तहत 29 अक्टूबर तक दिल्ली की बसों में मार्शलों की संख्या बढ़ाकर तकरीबन 13 हजार कर दी जाएगी। केजरीवाल ने त्यागराज स्टेडियम में नवनियुक्त मार्शलों के एक कार्यक्रम में कहा, “आज मैं आप सभी को यह सुनिश्चत करने की जिम्मेदारी सौंपना चाहता हूं कि हर सरकारी बस में महिलाएं सुरक्षित महसूस करें और पूरे आत्मविश्वास के साथ यात्रा कर सकें।”

केजरीवाल ने बताया कि दिल्ली की बसों में मार्शलों की मौजूदा संख्या 3400 है। उन्होंने कहा, ”कल भाई दूज के पावन पर्व पर बसों में मार्शलों की संख्या बढ़ाकर लगभग 13 हजार कर दी जाएगी। हम शहर में महिलाओं की सुरक्षा बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। मुझे लगता है कि बसों में मार्शलों की संख्या में ऐसी बढ़ोत्तरी दुनिया के किसी भी शहर में नहीं की गई होगी।

ये मार्शल बस में हर तरह की आपात स्थिति से निपटेंगे। बीमार लोगों की भी मदद करेंगे। बता दें, अभी डीटीसी की केवल ईवनिंग शिफ्ट की बसों में ही मार्शल होते हैं।


दिल्‍ली में 4 से 15 नवंबर के बीच फिर लागू होगा Odd-Even, जानिये प्रदूषण से निपटने के लिए केजरीवाल का सात सूत्री प्लान

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)