World Stroke Day 2019: चीनी-नमक ज्यादा खाने से बढ़ता है लकवे का खतरा, वर्ल्ड स्ट्रोक डे पर जानें इस बीमारी से बचने के तरीके

World Stroke Day 2019: चीनी-नमक ज्यादा खाने से बढ़ता है लकवे का खतरा, वर्ल्ड स्ट्रोक डे पर जानें इस बीमारी से बचने के तरीके

World Stroke Day 2019: 29 अक्टूबर को दुनियाभर में वर्ल्ड स्ट्रोक डे (World Stroke Day 2019) मनाया जाता है। इसका मकसद इस बीमारी के बढ़ते मरीज और इसकी गंभीरता को लेकर जागरुकता फैलाना है, जिससे लोग इस बीमारी के बारे में जानें और इससे बचने के तरीके खोजे जा सकें। स्ट्रोक यानि लकवा एक खतरनाक बीमारी है। इसका शिकार कोई भी, कहीं भी हो सकता है।

दुनियाभर में सबसे ज्यादा लोग स्ट्रोक के कारण ही विकलांग होते हैं। इसके चलते हर साल लाखों लोगों की जान जाती है। समय पर इस बीमारी का इलाज नहीं होने से गंभीर शारीरिक और मानसिक दुष्परिणाम झेलने पड़ते हैं। हालांकि इस बीमारी की सही पहचान कर तुरंत इलाज किया जाए तो रोगियों को ठीक भी किया जा सकता है।


विश्व स्ट्रोक दिवस 2019 की थीम (World Stroke Day 2019 theme)

इस वर्ष विश्व स्ट्रोक दिवस 2019 की थीम (World Stroke Day 2019 theme) “कट स्ट्रोक इन हाफ” (Cut Stroke in Half) है। इस वर्ष के अभियान का उद्देश्य एकीकृत रोकथाम रणनीति के माध्यम से स्ट्रोक के मामलों को कम करना होगा। इस साल फोकस कम और मध्यम आय वाले देशों पर होगा, जहां स्ट्रोक की घटनाएं सबसे अधिक होती हैं और जनजीवन पर दूरगामी प्रभाव डालते हैं। इसके माध्यम से, WSO का लक्ष्य 2030 तक स्ट्रोक की घटनाओं को आधी करना है।

स्ट्रोक एक ऐसी बीमारी है जिसमें मरीज का मुंह तिरछा हो जाता है, हाथ-पैर बेजान हो जाते हैं, जुबान लड़खड़ाने लगती है या आवाज पूरी तरह से चली जाती है। ऐसा होने पर अगर समय रहते इलाज न मिले तो परिणाम जानलेवा हो सकते हैं। वर्ल्ड स्ट्रोक कैंपेन की एक रिपोर्ट के मुताबिक, हर साल करीब डेढ़ करोड़ लोग लकवा या पक्षाघात के शिकार होते हैं। इनमें से करीब 55 लाख लोगों की मौत इसी गंभीर बीमारी की वजह से होती है। पूरी दुनिया में अब तक करीब 8 करोड़ लोगों में इस बीमारी की पुष्टि हो चुकी है।

ज्यादा चीनी-नमक भी है स्ट्रोक का कारण

अगर आप डायबीटीज के मरीज हैं, कॉलेस्ट्रॉल बढ़ा हुआ है, हाइपरटेंशन यानी हाई ब्लड प्रेशर के मरीज हैं और मोटापे के ग्रसित हैं तो ये सारी दिक्कतें सिर्फ हृदय रोग ही नहीं, बल्कि स्ट्रोक या लकवे का भी सबसे बड़ा कारण हो सकती है। रिफाइंड ऑइल, चीनी, नमक और फ्राइड फूड ज्यादा मात्रा में खाने वाले लोगों को भी स्ट्रोक का खतरा ज्यादा रहता है। वैसे तो स्ट्रोक किसी को भी हो सकता है लेकिन आमतौर पर यह पुरुषों में ज्यादा होता है। बावजूद इसके स्ट्रोक से मरने वालों में 50 फीसदी महिलाएं होती हैं।


स्ट्रोक के लक्षण

स्ट्रोक की अवस्था में इंसान का मुंह तिरछा होना, हाथ-पैर या शरीर के किसी हिस्से का बेजान हो जाना, जुबान लड़खड़ाना या ठीक से न बोल पाने जैसे लक्षण देखने को मिलते हैं। इस परिस्थिति में जल्द से जल्द डॉक्टर की सलाह लेकर उचित इलाज कराना चाहिए।

स्ट्रोक से बचने के तरीके

1. अपना ब्लड प्रेशर (बीपी) कंट्रोल रखें और इसकी नियमित रूप से जांच करवाएं।
2. धूम्रपान और नशीले पदार्थों का सेवन करने से बचें और अपनी सेहत का ख्याल रखें।
3. कॉलेस्ट्रॉल युक्त खाने से बचें। इससे स्ट्रोक की संभावनाएं ज्यादा हो सकती हैं।
4. रोजाना मॉर्निंग या इवनिंग वॉक करें और सप्ताह में 5 दिन करीब 30 मिनट वर्कआउट जरूर करें।
5. फल और हरी सब्जियों का ज्यादा से ज्यादा सेवन करें।
6. शरीर में बढ़ने वाली कैलोरी को बर्न करने के लिए कुछ न कुछ शारीरिक परिश्रम जरूर करें।


World Arthritis Day 2019: गठिया रोग को झोलाछाप डाक्टरों की गोलियां और चूर्ण बना रहे जटिल

World Heart Day 2019 : भारत में हर पांचवा व्यक्ति है दिल का मरीज, हृदय दिवस पर जानें इतिहास और थीम

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)