बिहार: तीसरे मोर्चे की हलचल, जीतन राम मांझी और कन्हैया से मुलाकात के बाद पप्पू यादव का ट्वीट- मिलकर बदलेंगे बिहार

बिहार में हाल की राजनीतिक गतिविधियों को देखें तो राज्य में तीसरे मोर्चे की सुगबुगाहट देखने को मिल रही है। जन अधिकार पार्टी (JAP) के अध्यक्ष और पूर्व सांसद पप्पू यादव (Pappu Yadav) की जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष और सीपीआई नेता कन्हैया कुमार (Kanhaiya Kumar) के साथ मुलाकात और इसके बाद हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा (HAM) के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी (Jitan Ram  Manjhi) से मुलाकात ने इन संभावनाओं को बल दिया है।

दरअसल बिहार की बदली हुई राजनीतिक परिस्थिति में कई चीजें एक साथ चल रही हैं। महागठबंधन की सहयोगी रही हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा (HAM) अब उससे अलग हो चुकी है। वहीं लोकसभा चुनाव में बड़ी हार के बाद महागठबंधन निराशा के दौर से गुजर रहा है। खासकर बिहार में विपक्ष की सबसे बड़ी पार्टी राजद नेतृत्व के स्तर पर ठहराव और निष्क्रियता का शिकार हो गई है। इन सब के कारण विपक्ष में बेचैनी है और इसी के कारण तीसरे मोर्चे की संभावना तलाशी जा रही है।


पप्‍पू यादव की मांझी व कन्‍हैया से मुलाकात

पूर्व सांसद पप्पू यादव ने जीतन राम मांझी से उनके सरकारी आवास पर जाकर मुलाकात की है। बताया जा रहा है कि दोनों नेता करीब दो घंटे तक एक साथ बैठे और आने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर बातचीत की। जानकारी के अनुसार पप्पू यादव ने पूर्व सीएम मांझी को तीसरे मोर्चे का नेतृत्व करने का ऑफर देते हुए कहा कि वे नया बिहार बनाने के लिए आगे आएं। वहीं पप्‍पू यादव ने अपनी पार्टी के दफ्तर में कन्हैया कुमार से भी मुुलाकात की। सूत्र बताते हैं कि इस मुलाकात में भी तीसरे मोर्चे के गठन को लेकर चर्चा हुई।

इन मुलाकातों के बाद पप्पू यादव ने एक ट्वीट किया जिसमे साथ मिलकर बिहार बदलने की बात कही थी।

दरअसल, पप्पू यादव लोकसभा चुनाव के पहले से ही तीसरे मोर्चे के गठन की कोशिश में लगे हैं। लोकसभा चुनाव के दौरान यह संभव नहीं हो पाया था। अब अगले साल अक्टूबर-नवंबर में होने जा रहे बिहार विधानसभा चुनाव को ले राजनीतिक दलों ने नए सिरे से तैयारियां शुरू कर दी हैं।

ऐसा होगा पप्‍पू यादव का तीसरा मोर्चा

इस परिस्थिति में पप्‍पू यादव भी तीसरा मोर्चा बनाने की कवायद में जुट गए हैं। राष्‍ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) व महागठबंधन से अलग इस मोर्चे में भारतीय जनता पार्टी (BJP) व आरजेडी के लिए कोई जगह नहीं होगी। अब देखना यह है कि पप्‍पू यादव की कोशिश कहां तक सफल होती है।


चमकी बुखार से मौतों पर PM मोदी की चुप्पी पर पप्पू यादव का निशाना, कहा- 5 साल में जीने का अधिकार तक नहीं दे पाए

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)